दिल्ली में 3 साल पहले हुए निर्भया रेप केस के आखिरी और नाबालिक आरोपी को आज रिहा कर दिया गया। इस बात की जानकारी नाबालिक के वकील एपी सिंह ने दी। लेकिन किसी के पास नाबालिक आरोपी के खिलाफ कोई जानकारी नहीं है। इस बात से जहाँ लोगों का गुस्सा भड़क उठा है, वहीँ कुछ लोग कोर्ट के इस फैसले की कड़ी शब्दों में निंदा कर रहे हैं। Also Read - लॉकडाउन: दिल्ली में बिना राशन कार्ड वालों को भी मिलेगा 5 किलो राशन, केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला

Also Read - Coronavirus: दिल्‍ली में अब तक कुल 384 लोग संक्रमित, 24 घंटे में 91 केस बढ़े

नाबालिक आरोपी की रिहाई को रोकने के लिए निर्भया के माता-पिता ने पूरी कोशिश की, साथ ही वे इसी फैसले के विरोध में शाम चार बजे से इंडिया गेट पर प्रदर्शन करना चाह रहे थे लेकिन पुलिस ने उन्हें इस बात ई इजाज़त नहीं दी। इस प्रदर्शन को रोकने के लिए ए पुलिस अधिकारी ने यह सफाई दी कि इंडिया गेट के आसपास धारा 144 लागू है इसलिए वो वहां प्रदर्शन नहीं कर सकते। Also Read - 14 राज्यों में अब तक तबलीगी जमात के 647 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए: Health Ministry

ये भी पढ़ें: ट्वीटर पर मिली धमकी, अरविन्द केजरीवाल की बेटी का रेप करने के लिए लोगों को उकसाया गया

इस बात से आहत आशा देवी ने कहा कि उनके साथ नाइंसाफी हो रही है। जहाँ एक तरफ उन्हें प्रदर्शन करने से रोका जा रहा है, वहीँ एक अपराधी को इतने बड़े अप्रश के बाद भी रिहा किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि इस अपराधी को किसी अज्ञात जगह पर ले जाया जा रहा है और उसे जीवन में दूसरा मौका दिया जा रहा है।