नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से कथित मारपीट का मामला एक एक सप्ताह बाद भी नहीं सुलझा है. इस मामले में दो आप विधायक दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं. सरकार और आईएएस एसोसिएशन में से कोई भी झुकने को तैयार नहीं दिख रहा है. इस बीच आप सरकार सभी आधिकारिक बैठकों का सीधा प्रसारण करने की योजना बना रही है. एक अधिकारी के मुताबिल, सरकार एक वेबसाइट पर बैठकों का सीधा प्रसारण करने की योजना बना रही है, जिसे हर कोई देख सकता है. Also Read - दिल्ली सरकार ने एम्स में भर्ती दुष्कर्म पीड़ित बच्ची के परिजनों को 10 लाख रुपये की मदद दी

अधिकारी ने कहा कि लोग यह जान पाएंगे कि बैठक में किसने क्या बोला, फिर चाहे वह चुने हुए प्रतिनिधि हो या या अधिकारी. उन्होंने कहा कि अगर इस योजना को मंजूरी मिल गई तो आगामी बजट में इसके क्रियान्वयन के लिए बजट आवंटित किया जाएगा. Also Read - Electric Vehicle Policy: दिल्ली में लागू हुई इलेक्ट्रिक वाहन नीति, जानें इससे जुड़े नुकसान और फायदे

जारी है मनमुटाव Also Read - दिल्ली सरकार ने कॉलेजों के प्रशासन पर उठाए सवाल, कहा- 243 करोड़ रुपये दिए, फिर भी टीचर्स को नहीं मिला वेतन 

इस बीच इस मुद्दे पर आईएएस एसोसिएशन और दिल्ली सरकार के बीच मनमुटाव जारी है. आईएएस ज्वाइंट फोरम ने आज इसे लेकर प्रेस कांफ्रेंस भी की जिसमें विरोधस्वरूप अधिकारी हाथों पर काली पट्टी बांधे हुए थे. इस दौरान ज्वाइंट फोरम की पूजा जोशी ने कहा कि हम इस मामले में सीएम से लिखित माफीनामा चाहते हैं. लेकिन माफी मांगने की बजाए सीएम और डिप्टी सीएम इसे नकार रहे हैं. इससे पता चलता है कि वे भी इस साजिश में शामिल हैं.

तिहाड़ जेल में आप विधायक

बता दें कि पिछले सप्ताह दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश ने 19 फरवरी की रात हुई बैठक में दिल्ली सरकार के दो विधायकों अमानतुल्लाह खान और प्रकाश जारवाल पर मुख्यमंत्री अरविद केजरीवाल की उपस्थिति में मारपीट करने का आरोप लगाया था. दोनों विधायकों की तीसहजारी कोर्ट ने 14 दिन के लिए न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया. कोर्ट ने इनकी जमानत याचिका भी खारिज कर दी. दोनोंं विधायकों के खिलाफ चीफ सेक्रेटरी अंशु प्रकाश ने एफआईआर दर्ज कराई थी. अंशु प्रकाश ने सिलसिलेवार पुलिस को बताया था कि उन्हें रात 12 बजे सीएम आवास पर बुलाकर मारपीट और बदसलूकी की गई. मेडिकल रिपोर्ट में भी उनके साथ मारपीट की बात सामने आई थी.

केजरीवाल की एलजी से गुहार

मुख्य सचिव से मारपीट विवाद के मद्देनजर दिल्ली के अधिकारियों ने सरकार की तरफ से बुलाई गई बैठकों  का बहिष्कार कर रखा है. इस संकट का हल निकालने के लिए शुक्रवार को सीएम अरविंद केजरीवाल ने एलजी अनिल बैजल से भी मुलाकात की. इस दौरान एलजी ने दिल्ली सरकार को अधिकारियों के साथ गलत बर्ताव नहीं करने की नसीहत भी दी. वहीं, सीएम ने एलजी से गुहार लगाई कि वह अधिकारियों से बैठकों में शामिल होने को कहें. उन्होंने एलजी से कहा कि अधिकारियों के बैठकों में ना आने से काम प्रभावित हो रहा है और इनके न पहुंचने से बैठकें रद्द करनी पड़ रही है.

(आईएएनएस/एएनआई इनपुट)