Also Read - Delhi Curfew Lockdown: दिल्ली में रात्रि कर्फ्यू-लॉकडाउन की संभावना नहीं, लग सकती हैं नई पाबंदियां

Also Read - दिल्ली सरकार मजदूरों को घर बैठे ऐसे दे रही है दो हजार से दो लाख रुपये, जानिए कैसे ले सकते हैं

नई दिल्ली, 25 अप्रैल | दिल्ली सरकार ने शनिवार को कहा कि किसानों को बर्बाद फसलों का मुआवजा देने के लिए शुरू की गई योजना को दिवंगत किसान गजेंद्र सिंह को समर्पित किया जाएगा। गजेंद्र ने आम आदमी पार्टी (आप) की यहां हाल में आयोजित एक रैली में आत्महत्या कर ली थी। दिल्ली सरकार की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, राजस्थान के दौसा जिले के किसान गजेंद्र को शहीद के रूप में भी माना जाएगा। यह भी पढ़ें–दिवंगत किसान गजेंद्र के परिवार से मिले आप नेता Also Read - केजरीवाल की सख्ती, दिल्ली में अब बिना मास्क के दिखे तो भरना पड़ेगा 2000 रुपये का जुर्माना

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सिंह के भाई से बात की और परिवार की दोनों मांगे स्वीकार कर ली। इसके बाद सरकार ने यह निर्णय लिया। बयान में कहा गया है, “दिल्ली सरकार, गजेंद्र के परिवार के किसी बच्चे के 18 वर्ष का होने पर उसे नौकरी देगी।” केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा था कि उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी में पार्टी की रैली के दौरान किसान गजेंद्र की आत्महत्या के बाद अपना भाषण न रोककर उन्होंने गलती की थी।

बुधवार को आयोजित आप की रैली में गजेंद्र ने नाटकीय ढंग से एक पेड़ से फंदा लगा लिया था। उनके इस कदम से देशभर में आक्रोश भड़क उठा था। आप की रैली केंद्र सरकार के भूमि अधिग्रहण अध्यादेश के खिलाफ आयोजित की गई थी। सिंह के परिवार ने कथिततौर पर गजेंद्र सिंह को शहीद का दर्जा देने और उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने की दिल्ली सरकार से मांग की थी।