नई दिल्ली: दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ने के बीच दिल्ली सरकार ने सभी जिला मजिस्ट्रेट से नए मरीजों के रहने के लिए उचित स्थान तलाशने और अंतिम संस्कार करने अथवा दफनाने के लिए अतिरिक्त जमीन चिह्नित करने के निर्देश दिए हैं. Also Read - BMC ने अमिताभ के 'जलसा' को कंटेनमेंट जोन घोषित क‍िया, पुलिस ने अस्‍पताल और दो बंगलों की सुरक्षा बढ़ाई

सोमवार को दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) द्वारा जारी एक आदेश में जिला मजिस्ट्रेट से कहा गया है कि वे चिह्नित किए गए परिसर और भूमि संबंधी जानकारी बुधवार तक उससे साझा करें. Also Read - Full Lockdown in Madhya Pradesh: कोरोना वायरस के चलते फिर से थमी मध्य प्रदेश की रफ्तार, राज्य में लागू हुआ टोटल लॉकडाउन

आदेश में कहा गया है, ”दिल्ली में कोविड-19 रोगियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए कोविड बिस्तरों की क्षमता बढ़ाने की योजना पहले से तैयार करना लाजिमी है और अंतिम संस्कार करने तथा दफनाने के लिए अतिरिक्त जमीन की पहचान जरूरी है. बता दें कि दिल्‍ली सरकार के निर्देश के मुताबिक अंत्येष्टि में 20 लोग शामिल हो सकेंगे. Also Read - पूर्व क्रिकेटर चेतन चौहान को हुआ कोरोना, लखनऊ के अस्‍पताल में भर्ती

गौरतलब है कि दिल्ली में संक्रमण के मामले 20,000 को पार कर गए हैं, और अब तक 523 लोगों की मौत हो चुकी हैं. वहीं दिल्‍ली सरकार ने लॉकडाउन को अनलॉक करने के लिए आदेश में में कहा है कि रात नौ बजे से सुबह पांच बजे तक कोई भी कहीं आ-जा नहीं सकेगा. जरूरी सेवाएं अपवाद होंगी. 65 साल से अधिक उम्र के लोगों, अन्य बीमारियों से ग्रस्त व्यक्तियों, गर्भवती महिलाओं, 10 साल से कम उम्र के बच्चों को घरों में रहने की सलाह है, वे बस जरूरी एवं स्वास्थ्य उद्देश्यों से बाहर निकल सकते हैं. ”