नई दिल्‍ली: देश की राजधानी में शनिवार को टिड्डी दल के हमले की आंशका के मद्देनजर दिल्‍ली सरकार ने आपात बैठक बुलाई है. दिल्‍ली सरकार ने यह फैसला तब लिया जब, आज शनिवार को गुरुग्राम में टिड्डी दल ने हमला कर दिया. फरीदाबाद में टिड्डी दल ने अपना कहर ढ़ाया है. Also Read - Coronavirus in Delhi latest Update: दिल्ली में संक्रमितों संख्या 94 हजार के पार, अब कंटेनमेंट जोन के बाहर भी होगा एंटीजेन टेस्ट

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि गुरुग्राम में टिड्डी हमले पर आपात बैठक के बाद दिल्ली सरकार स्थिति से निपटने के लिए परामर्श जारी करेगी. Also Read - दिल्ली सरकार ने जारी किए कोरोना के संशोधित दिशा-निर्देश, इन बीमारियों से जूझ रहे मरीज घर में पृथक वास में नहीं रह सकते

राय ने न्‍यूज एजेंसी पीटीआई से कहा, ”आपात बैठक के बाद स्थिति से निपटने के लिए उठाए जाने वाले कदमों पर एक परामर्श जारी किया जाएगा. ” उन्होंने कृषि विभाग के अधिकारियों को गुरुग्राम के पास के इलाकों का दौरा करने के निर्देश दिए. Also Read - कोरोना महामारी के बीच दिल्ली सरकार ने शुरू किया 'Learning with human feel', स्कूल बंद के दौरान भी जारी रहेगा पढ़ाई 

अधिकारियों ने बताया कि विकास सचिव, मंडल आयुक्त, निदेशक, कृषि विभाग और दक्षिण तथा पश्चिम दिल्ली के जिला मजिस्ट्रेट बैठक में शामिल होंगे. इससे पहले दिन में टिड्डी दल हरियाण के गुरुग्राम पहुंचा और अनेक स्थानों पर आसमान में टिड्डियों का जाल सा छा गया.

बता दें क‍ि देश में एक तरफ खरीफ फसलों की बुवाई जोर पकड़ चुकी है, वहीं दूसरी तरफ हरियाली का दुश्मन टिड्डियों का आतंक कम नहीं हो रहा है. हरियाणा में शुक्रवार की रात टिड्डी दल पहुंचा और किसी भी समय देश की राजधानी दिल्ली पर भी यह धावा बोल सकता है.

टिड्डी दल बेवर्ले पार्क, गार्डन एस्टेट और हैरिटेज सिटी के अलावा दिल्ली से लगती सीमा पर सिकंदरपुर की इमारतों के ऊपर भी देखे गए.

वनस्पति संरक्षण, संगरोध एवं संग्रह निदेशालय में पदस्थापित उपनिदेशक डॉ. के. एल. गुर्जर ने शनिवार को न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस को बताया कि टिड्डियां बीती रात पहली बार हरियाणा पहुंची हैं और दिल्ली के आसपास के इलाकों में इसका प्रकोप बना हुआ है.

दिल्ली पर धावा बोलने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि इस समय टिड्डियां पलवल की तरफ बढ़ रही हैं और हवा के रुख के अनुसार ये गमन करती हैं. इसलिए दिल्ली की तरफ भी बढ़ सकती हैं. हरियाणा के गुरुग्राम और रेवाड़ी में इस समय टिड्डियों का प्रकोप बना हुआ है.

टिड्डियों का प्रकोप इस समय राजस्थान और मध्यप्रदेश में अधिक है, जबकि छोटे-छोटे दल बिहार के रोहतास और उत्तर प्रदेश के वाराणसी व जौनपुर तक पहुंच चुके हैं.

टिड्डी दल गुरुग्राम पहुंचा, फिलहाल दिल्ली का रुख नहीं
देश के अनेक हिस्सों में कहर मचा चुके टिड्डी दल अब दिल्ली से सटे हरियाण के गुरुग्राम पहुंच गए हैं और यहां शनिवार को अनेक स्थानों पर आसमान में टिड्डियों का जाल सा छा गया। लेकिन फिलहाल इनके राष्ट्रीय राजधानी का रुख करने के आसार नहीं है.

दिल्ली-गुरुग्राम सीमा पर पहुंचे थे टिड्डी दल 
अधिकारियों ने ने बताया कि करीब दो किलोमीटर में फैले टिड्डी दल उपनगरीय शहर को पार करते हुए
दिल्ली-गुरुग्राम सीमा पर पहुंचे, लेकिन दिल्ली का रुख नहीं किया.

टिड्डी दल हरियाणा के पलवल की ओर बढ़ गए
टिड्डी चेतावनी संगठन, कृषि मंत्रालय से जुड़े के़ एल. गुर्जर ने कहा, ”टिड्डी दल पश्च‍िम से पूर्व की ओर आए हैं. इन्होंने सुबह 11.30 बजे गुरुग्राम में प्रवेश किया.” उन्होंने बताया कि टिड्डी दल बाद में हरियाणा के पलवल की ओर बढ़ गए. गुरुग्राम के अनेक निवासियों ने ऊंची इमारतों से टिड्डियों के पेड़-पौधों पर और मकानों की छतों पर छा जाने के वीडियो साझा किए.

झुंडों को खदेड़ने के लिए ढोल पीटे जा रहे
हरियाणा के झज्‍जर में स्थानीय लोगों द्वारा झुंडों के झुंडों को खदेड़ने के लिए ढोल पीटे जा रहे हैं, जबकि जिला प्रशासन कीड़ों को डराने के लिए सायरन का इस्तेमाल कर रहा है.

कई राज्‍य टिड्डियों की चपेट में आ चुके हैं
केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने की रिपोर्ट के अनुसार, 21 जून 2020 तक राजस्थान, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के 84 जिले अब तक टिड्डियों की चपेट में आ चुके हैं जहां 114,026 हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण किया गया है. ( इनपुट: एजेेंसी)