दिल्ली | आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन से मनी लॉन्ड्रिंग केस में पूछताछ हुई. आज सीबीआई जैन को अपने दफ्तर बुलाया था. खबरों के मुताबिक इस दौरान सीबीआई की टीम ने सत्येंद्र जैन से गहन पूछताछ की. यह पूरा मामला मनी लॉन्ड्रिंग का है. सत्येंद्र जैन के भूमिका को लेकर सीबीआई ने प्रारंभिक जांच का मामला दर्ज किया है. जिसके बाद जानकारी जुटाने के लिए सीबीआई का यह पहला स्टेप माना जाता है.

सीबीआई सत्येंद्र जैन से 8 घंटे तक पूछताछ की. बता दें इससे पहले सीबीआई ने पूछताछ के लिए सत्येंद्र जैन को नोटिस भेजा था. सीबीआई यह भी जानना चाहती है कि उनके परिवार वालों के खातों में करोड़ों रुपए कहां से आए. सत्येंद्र जैन पर हवाला कारोबारियों के साथ सीधे संपर्क रखने का भी आरोप लग चुका है. सूत्रों की मानें तो सत्येंद्र जैन ने कुछ सवालों पर सही तरीके से जवाब नहीं दिए.

एसीबी ने दिल्ली में की छापेमारी

वहीं, दिल्ली की भ्रष्टाचार निरोधक शाखा ने 300 करोड़ रुपये के कथित मेडिकल घोटाले की जांच के संबंध में गुरुवार को राजधानी दिल्ली के तीन स्थानों पर छापेमारी की. यह छापेमारी आम आदमी पार्टी (आप) से बर्खास्त किए गए मंत्री कपिल मिश्रा की शिकायत के बाद हुई है. कपिल मिश्रा द्वारा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन पर दवा कंपनियों को लाभ पहुंचाने के लिए पद के दुरुपयोग का आरोप लगाया था

हवाला कारोबारियों से संबंध का आरोप 

दिल्‍ली सरकार में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्‍येंद्र जैन पर हवाला कारोबारियों से संबंध रखने का आरोप लगा था. इस मामले में सत्‍येंद्र जैन को आयकर विभाग ने नोटिस जारी किया था. आयकर विभाग ने सत्येंद्र जैन के हवाला कारोबारियों से संबंधों के सबूत मिलने का दावा किया था. आयकर विभाग के सूत्रों का कहना है कि जैन से जुड़ी कंपनियों में हवाला के रास्ते करोड़ों रुपये आए और उनसे दिल्ली के विभिन्न भागों में 200 एकड़ से अधिक की जमीन खरीदी थी. मीडिया रिपोर्टों के हवाले से बताया गया है कि जैन ने अपनी सालाना आय 8 लाख रुपये बताई थी.