नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट ने स्वयंभू बाबा दाती महाराज के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों की अपनी जांच की एक स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने का पुलिस को निर्देश दिया. दरअसल , पीड़िता ने अदालत से अनुरोध किया है कि उसके मामले को सीबीआई को हस्तांतरित किया जाए. बता दें कि दाती मदन लाल उर्फ दाती महाराज के खिलाफ सात जून को एक शिकायत दर्ज कराई गई थी और 11 जून को एक एफआईआर दर्ज की गई थी. पुलिस ने 22 जून को आरोपी से पूछताछ की थी. उन पर दिल्ली और राजस्थान के अपने आश्रमों में अपनी अनुयायी से रेप करने का आरोप है. वहीं, आरोपी ने दावा किया है कि उसे इस मामले में फंसाया गया है. Also Read - SSC/CHSL/JE/CGL: कर्मचारी चयन आयोग ने जारी की पेंडिग परीक्षाओं की सूची, अब इस दिन होंगी परीक्षाएं

Also Read - धरना दे रहे BJP नेता हिरासत में, दिल्ली सरकार से मांग रहे थे विज्ञापनों का हिसाब

दाती महाराज पर रेप के आरोप में FIR, कई महिलाओं के यौन शोषण का दावा Also Read - दिल्ली पुलिस के ASI शेषमणि पांडेय की कोरोना से मौत, भारतीय सेना के साथ भी कर चुके थे काम

जस्टिस मुक्ता गुप्ता ने शुक्रवार को पीड़िता की याचिका पर दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा को नोटिस जारी किया. याचिका में महिला ने अदालत से जांच एजेंसी को आरोपी को गिरफ्तार करने का निर्देश देने का अनुरोध किया है. अदालत ने मामले की अगली सुनवाई 30 अगस्त के लिए सूचीबद्ध कर दी. कोर्ट ने इससे पहले एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) की इसी तरह की एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि इसका (याचिका का) आपराधिक मामले से कोई संबंध नहीं है.

रेप के आरोपी दाती महाराज के आश्रम से 600 लड़कियां कहां गईं?

याचिका में आश्रम जब्त करने की भी मां

याचिका में अदालत से जांच एजेंसी को निष्पक्ष जांच करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है. इसमें कहा गया है कि जांच एजेंसी को स्वयंभू बाबा के आश्रम को जब्त कर लेना चाहिए और इसकी गतिविधियों का प्रबंध करने के लिए किसी को नियुक्त करना चाहिए.

दिल्ली पुलिस पर पक्षपात का आरोप

एनजीओ ने अपनी याचिका में आरोप लगाया था कि दिल्ली पुलिस द्वारा की गई जांच पक्षपातपूर्ण नजर आ रही है, क्योंकि अब तक गिरफ्तारी नहीं की गई है. इससे गवाहों को प्रभावित करने और सबूत नष्ट करने की गुंजाइश बन सकती है. (इनपुट- एजेंसी)