नई दिल्ली: दिल्ली हाईकोर्ट ने साउथ दिल्ली में पेड़ काटने पर 4 जुलाई तक रोक लगा दी है. हाईकोर्ट ने अपने आदेश में कहा है कि जब तक अगली सुनवाई न हो तब तक साउथ दिल्ली में एक भी पेड़ नहीं कटना चाहिए. कोर्ट ने अगली सुनवाई 4 जुलाई को तय की है. हाईकोर्ट ने एनजीटी को कहा कि वो मामले की सुनवाई होने तक पेड़ काटने पर रोक लगाए. रीडिवलेपमेंट का काम रही एनबीसीसी को कोर्ट ने कहा कि आप कैसे दिल्ली में हजारों पेड़ काट सकते हैं. Also Read - निर्भया मामला: दोषियों की फांसी पर रोक के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट का फैसला आज

दिल्ली हाईकोर्ट ने एनबीसीसी से कहा, ”क्या दिल्ली विकास के नाम पर रोड और बिल्डिंग बनाने के लिए पेड़ काटना अफोर्ड कर सकती है? जबतक इस केस की अगली सुनवाई नहीं होती तब तक कोई भी पेड़ न काटा जाए.” Also Read - केजरीवाल ने एलजी से बात की, शांति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का किया अनुरोध

कोर्ट ने एनबीसीसी को कहा कि आप तो सिर्फ एजेंसी हैं जो काम कर रही है. हम सरकारी एजेंसियों की बात सुनना चाहते हैं. एनजीटी का आदेश कहां है जिसमें कहा गया कि पेड़ काट सकते हैं. एनबीसीस ने भी कोर्ट में अपनी सफाई पेश की है.

एनबीसीस ने कोर्ट में कहा कि दो जुलाई को मामला NGT में सुनवाई के लिए आएगा. हाईकोर्ट को मामले की सुनवाई नहीं करनी चाहिए. अथॉरिटी ने भी पेड़ काटने की इजाजत दी है. हमने आठ करोड़ रुपये डीडीए में जमा भी कराए हैं.