नई दिल्ली: दिल्ली मेट्रो ने पिछले करीब 11 महीनों के दौरान ट्रेन के फर्श पर बैठे पकड़े गये लोगों से 38 लाख रुपया जुर्माना वसूल किया है. यह जानकारी सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत प्राप्त जवाब में सामने आई है. गंदगी फैलाने, बाधा उत्पन्न करने, उचित टोकन के बिना यात्रा करने और अधिकारियों के काम में बाधा डालने सहित विभिन्न अपराधों के लिए जून 2017 से मई 2018 के बीच 51,000 लोगों से कुल 90 लाख रुपए वसूल किये गए. Also Read - Farmers Protest: 'दिल्ली चलो' एक महीने का राशन और पूरा रसोईघर लेकर विरोध करने निकले हैं किसान

Also Read - Delhi Metro News Update: इन शहरों के लिए आज भी नहीं चलेगी मेट्रो, DMRC ने अगले आदेश तक एनसीआर से दिल्ली मेट्रो सेवा बंद की

पीटीआई संवाददाता द्वारा दायर आरटीआई के जवाब में दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने कहा कि इनमें से सबसे अधिक 38 लाख रुपया फर्श पर बैठने वालों से वसूल किया गया. एक अनुमान के मुताबिक ट्रेन के फर्श पर बैठने के लिए19,026 लोगों पर जुर्माना लगाया गया. मेट्रो के नियमों के मुताबिक, मेट्रो ट्रेन के फर्श पर बैठना सार्वजनिक शिष्टाचार के अनुरूप नहीं है और इसके लिए 200 रुपये का जुर्माना है. Also Read - पंजाब से हरियाणा, दिल्‍ली तक किसान मार्च की गूंज, पानी की बौछारें, आंसू गैस, लाठी चार्ज...पूरे हंगामें की खास Pics

LIVE: करुणानिधि की समाधि की जगह पर मद्रास हाईकोर्ट में हो रही है सुनवाई, पढ़ें अपडेट्स

डीएमआरसी के मुताबिक, पिछले साल जून से लेकर इस साल मई तक 51,441 लोगों पर जुर्माना लगाया गया और कुल 89,94,380 रुपए वसूल किये गये. मेट्रो की ब्लू लाइन पर ट्रेन की छत पर यात्रा करने का भी एक मामला दर्ज किया गया जिसके लिए अपराध करने वाले से 50 रुपए का जुर्माना वसूला गया.

मायावती का नया दांव, आर्थिक आधार पर मांगा सवर्णों और मुस्लिमों के लिए 18 प्रतिशत आरक्षण

येलो लाइन पर सबसे अधिक जुर्माना 39,20,220 रूपया वसूल किया गया. अन्य अपराध जिसमें जुर्माना वसूल किया गया उनमें टोकन ले जाते हुये, आपत्तिजनक सामग्री ले जाते हुये, गैरकानूनी तरीके से प्रवेश और मेट्रो की पटरियों पर चलना शामिल है. कुछ यात्रियों ने बताया कि उन्हें समझ नहीं आया कि फर्श पर बैठने के लिए जुर्माना क्यों वसूल किया गया.

करुणानिधि के निधन के बाद बेटे एमके स्टालिन ने लिखा भावुक लेटर, पूछा कहां चले गए?

द्वारका से नोएडा रोजाना यात्रा करने वाली दीपिका भाटिया को मेट्रो से घर पहुंचने में करीब डेढ़ घंटे का समय लगता है. उन्होंने कहा, ‘‘मेरे पास दिन भर काम करने के बाद खड़े होने की ताकत नहीं रहती है.’’ उन्होंने कहा कि वह समझती है कि यह अपराध है लेकिन इसके पीछे का कारण पता नहीं.