नई दिल्लीः पिछले कई दिनों से राजधानी दिल्ली और एनसीआर का क्षेत्र भारी प्रदूषण की मार क्षेल रहा है. शनिवार और रविवार की रात हुई बारिश से लोगों को लगा था कि इस दमघोटू प्रदूषण से कुछ हद तक राहत मिलेगी लेकिन बारिश इतनी हल्की हुई कि प्रदूषण पर इसका कुछ भी असर नहीं हुआ. मौसम वैज्ञानिक भी इस समस्या के बारे में अभी कुछ भी ठीक प्रकार से नहीं कह पा रहे हैं. वैज्ञानिकों का कहना है कि इतने ज्यादा प्रदूषण को हटाने के लिए इतनी हल्की बारिश काफी नहीं है.

पर्यावरण वैज्ञानिक स्मोक बढ़ने के लिए हरियाणा और पंजाब से आ रही हवा को भी एक कारण मान रहे हैं. दिल्‍ली में आज न्यूनतम तापमान 19 डिग्री दर्ज किया गया और अधिकतम तापमान 29 डिग्री तक पहुंचने का अनुमान है. रविवार सुबह दिल्‍ली में एयर क्‍वालिटी इनडेक्‍स (AQI) का स्‍तर 625 रहा, जोकि गंभीर से अधिक है.

रविवार सुबह भी पूरे एनसीआर में धुंध छाई हुई है. इससे पहले शनिवार को भी दिल्ली -एनसीआर में धुंध की चादर छाई रही थी. ‘सफर इंडिया’ के मुताबिक रविवार सुबह 7.30 बजे तक दिल्ली (Delhi) में पीएम 10 का लेवल 411 (बहुत खराब) था. सफर इंडिया के मुताबिक सोमवार को प्रदूषण में कुछ कमी आ सकती है और वायु गुणवत्ता भी सुधर सकती है. रविवार को दिल्ली के चांदनी चौक में पीएम 2.5 का लेवल 388 और पीएम 10 का लेवल 424 (गंभीर) रहा. पूसा में पीएम 2.5 का लेवल 403 (गंभीर), पीएम 10 का लेवल 397 रहा.

फतेहाबाद की हवा देश में सबसे खराब, लखनऊ व पटना की स्थिति दिल्ली से भी बद्तर

फिलहाल अभी कोई भी इस बात पर ठीक से टिप्पणी नहीं कर पा रहा कि प्रदूषण की इस समस्या से कब तक निजात मिल पाएगी, लेकिन माना जा रहा है कि मंगलवार तक कुछ हद तक इसमें कमी जरूर आ जाएगी. वहीं दूसरी तरफ खराब प्रदूषण के कारण राजधानी और एनसीआर के आसपास के क्षेत्रों में सभी स्कूल 5 नवंबर तक बंद कर दिए गए.