नई दिल्ली. वीवीआईपी हेलीकॉप्टर मामला में शनिवार को प्रवर्तन निदेशालय ने धन शोधन के मामले में कथित बिचौलिए क्रिश्चयन मिशेल को दिल्ली की अदालत में पेश किया. इस दौरान ईडी ने क्रिश्चयन मिशेल को न्यायिक हिरासत में भेजने का अनुरोध किया. ईडी की दलील को सुनने के बाद अदालत ने मिशेल को 26 फरवरी तक न्यायिक हिरासत में भेजा.Also Read - 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख, पुलिस हिरासत में भेजे गए सचिव वाजे

Also Read - दाउद इब्राहिम के भाई इकबाल कासकर को NCB की पूछताछ के बाद वापस न्यायिक हिरासत में भेजा गया

बता दें कि अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर मामले की सुनवाई कर रही दिल्ली की एक अदालत ने पिछले सप्ताह प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में मिशेल को अपने वकील से मिलने पर रोक लगा दी थी. अदालत ने यह कदम तक उठाया जब एजेंसी ने कहा कि मिशेल कानूनी सुविधा का दुरूपयोग करते हुए वकीलों को चिट दे रहा है और ‘‘श्रीमती गांधी’’ से संबंधित प्रश्नों से निपटने के बारे में राय मांग रहा है. Also Read - 'Toolkit' Case: कोर्ट ने पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि को तीन दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

प्रवर्तन निदेशालय कर रहा है मामले की जांच
मामले की जांच प्रवर्तन निदेशालय कर रहा है. उसने मिशेल की हिरासत अवधि बढ़ाने की मांग करते हुए दिए गए अपने आवेदन में यह भी दावा किया था कि मिशेल ने पूछताछ के दौरान ‘‘एक इतालवी महिला के पुत्र’’ के बारे में बताया और यह भी कहा कि किस तरह वह देश का अगला प्रधानमंत्री बनने जा रहा है.