नई दिल्ली. रामलीला मैदान में बुधवार को मजदूर किसान रैली आयोजति है. इसमें शामिल होने के लिए देश भर से किसान दिल्ली पहुंचे हैं. बताया जा रहा है कि देश के अलग-अलग राज्यों से 4 लाख से ज्यादा लोग इसमें शामिल होने के लिए राजधानी पहुंचे हैं. इसे देखते हुए ट्रैफिक एडवाइजरी जारी की गई है. कई जगह रास्ते बंद हैं और रूट डायवर्ट किया गया है.

पुलिस के मुताबिक, रैली रामलीला मैदान से पार्लियामेंट स्ट्रीट के लिए निकलेगी. इस दौरान वह रंजीत सिंह फ्लाईओवर, टॉल्स्टॉय मार्ग होते हुए भैरो मंदिर, पुराना किला, तिलक ब्रिज और सफदरगंज रेलवे स्टेशन से गुजरेगी. इसे देखते हुए दिल्ली पुलिस ने अपील की है कि दिल्ली गेट, पहाड़ंगज चौक, मिंटो रोड, बाराखंबा, केजी मार्ग और जनपथ की तरफ जाने से बचें.
दिल्ली में आज किसान-मजदूर रैली, देश भर से आए हजारों लोग करेंगे प्रदर्शन

इधर से जाएं लोग
पुलिस के मुताबिक, पहाड़गंज की चौक की तरफ जाने वाले लोग पककुंइया रोड से होते हुए दिल्ली गेट जाएं. इस दौरान वे कनाट प्लेस, मंडी हाउस और आईटीओ के रास्ते से होकर गुजर सकते हैं. मिंटो रोड की तरफ से आने वाले लोग डीडीयू मार्ग, आईटीओ से ट्रांस यमुना रोड होते हुए दिल्ली गेट जा सकते हैं. बाराखंबा रोड से होते हुए जाने वाले लोग रंजीत सिंह फ्लाइओवर से दिल्ली गेट की तरफ न जाएं.कई संगठन हैं शामिल
इस प्रदर्शन को सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन (CITU), ऑल इंडिया किसान सभा (AIKS) और ऑल इंडिया एग्रिकल्चर वर्कर्स यूनियन (AIAWU) ने आयोजित किया है. एआईकेएस के एक सदस्य का कहना है कि दिहाड़ी का मुद्दा ही किसानों और मजदूरों को एकजूट कर पाया है. किसानों को निम्नतम समर्थन मूल्य नहीं मिल पा रहा है और मजदूरों को दिहाड़ी.

ये है मांग
दिल्ली आए किसानों-मजदूरों ने इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया कि उन्होंने दो करोड़ नौकरी देने का वादा किया था. लेकिन नौकरियां कहां हैं? यदि सरकार नीतियों को नहीं बदल सकती है तो किसान-मजदूर सरकार को बदल देंगे.