नई दिल्ली: दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) में जान गंवाने वाले दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल रतन लाल (Head Constable Rattan Lal) का अंतिम संस्कार कर दिया है. पूरे सम्मान के साथ रतन लाल का संस्कार किया गया. इस दौरान मौजूद पुलिस ने सलामी दी. अंतिम संस्कार के दौरान गांव और आसपास के लोग बड़ी संख्या में मौजूद रहे. Also Read - विदेश में हैं बच्‍चे, लॉकडाउन में अकेले रह रहे बुजुर्ग दंपति के लिए देवदूत बन गई दिल्‍ली पुलिस

राजस्थान के सीकर स्थित गांव में रतन लाल की पत्नी, बच्चों और परिवार के लोगों का रो-रोकर बुरा हाल है. इस करुण क्रंदन को देख हर किसी की आँखें नम हो गईं. गांव के लोगों ने उनकी शहादत को सलाम किया. इलाके में उनकी शहादत पर शोक की लहर है. Also Read - दिल्ली सरकार ने अगले महीने के लिए राशन देना शुरू किया, जानिए कहां मिलेगी ये सुविधा

हाईकोर्ट ने दिल्ली हिंसा पर कहा- एक और ’84’ नहीं होने देंगे, तीन BJP नेताओं के ख़िलाफ़ FIR दर्ज हो Also Read - भारत में लॉकडाउन! दिल्ली पुलिस ने लोगों को चेताया, भूलकर भी न खोलें ये वेबसाइट, नहीं तो...

इससे पहले हिंसा के दौरान जान गंवाने पुलिसकर्मी रतन लाल को शहीद का दर्जा देने की मांग करते हुए गाँव के लोगों ने धरना दिया था. राजस्थान के सदीनसर में परिजन व गाँव के लोग धरने पर बैठ गए थे. ये लोग रतनलाल को शहीद का दर्जा दिए जाने की मांग सरकार से कर रहे थे.

दिल्ली हिंसा को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के लोगों से शांति बनाए रखने अपील की है. अमित शाह ने नेताओं से गलत बयान देने से बचने को कहा है. उन्होंने गृह मंत्रालय के साथ हालात को कंट्रोल करने के लिए मीटिंग की. इसी बीच कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हिंसा के लिए बीजेपी नेताओं को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने कहा कि नफरत वाले बयानों के बाद हिंसा हुई. हालात बिगड़ते रहे और किसी ने कुछ नहीं किया. गृह मंत्री अमित शाह को इसके लिए इस्तीफा दे देना चाहिए.