नई दिल्ली: दिल्ली के शाहीन बाग धरनास्थल के पास रविवार सुबह एक अज्ञात व्यक्ति ने पेट्रोल बम फेंक दिया. पुलिस ने यह जानकारी दी. संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध में इस धरनास्थल पर शाहीन बाग की महिलाएं तीन महीने से अधिक समय से धरना दे रही हैं. अब तक किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. Also Read - Coronavirus latest Update: 500 से अधिक नए मामले, संक्रमितों की संख्या 3000 के पार, 90 से अधिक लोगों की मौत

पुलिस ने बताया कि घटना सुबह करीब 9.30 बजे सुबह हुई. पुलिस को घटनास्थल पर पेट्रोल से भरी करीब पांच-छह बोतलें मिली हैं. Also Read - कोरोना मरीजों के उपचार के लिए सेना के 51 अस्पताल तैयार

बता दें कि शाहीन बाग में महिला प्रदर्शनकारी रविवार को ‘जनता कर्फ्यू’ के दिन भी अपना विरोध प्रदर्शन जारी किए हुए हैं. इससे पहले दो दिन पहले शुक्रवार को प्रदर्शनकारियों ने कहा था कि किसी भी समय 50 से अधिक महिलाएं विरोध प्रदर्शन नहीं कर रही हैं.

एक प्रदर्शनकारी ने कहा था, रविवार को, हम छोटे टेंटों के नीचे बैठेंगे. केवल दो महिलाएं प्रत्येक टेंट के नीचे बैठेंगी और अपने बीच एक मीटर से अधिक दूरी बनाए रखेंगी. एक अन्य प्रदर्शनकारी रिजवाना ने कहा कि महिलाएं हर सावधानी बरत रही हैं और वे हर समय बुर्के में ढकी रहती हैं. उन्होंने कहा, नियमित रूप से हाथ धोना हमारी जीवनशैली का हिस्सा है. हम दिन में पांच बार नमाज अदा करते हैं और हर बार हाथ धोते हैं.