नई दिल्ली: दिल्ली के कई इलाकों में रविवार रात करीब आठ बजे के करीब हिंसा की अफवाह फैला दी गई. इसके बाद सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए दिल्ली के जो मेट्रो स्टेशन बंद किए गए थे, उन्हें फिलहाल खोल दिया गया है. दिल्ली पुलिस ने कहा है कि दिल्ली के सभी इलाकों में शांति है. सभी जगह हालात बिल्कुल सामान्य हैं. दिल्ली पुलिस ने लोगों से अफवाह पर ध्यान न देने और शांति बनाए रखने की अपील की है. Also Read - Tabligi Markaz: मौलान साद की बढ़ने वाली हैं मुश्किलें, 20 देशों के 83 विदेशियों के खिलाफ मामला दर्ज, 14000 पन्नों की है चार्जशीट

  Also Read - 916 तब्लीगी जमातियों के खिलाफ दिल्ली पुलिस लेगी बड़ा एक्शन, इन आरोपों के तहत दायर होगी चार्जशीट

दिल्ली पुलिस के पीआरओ एमएस रंधावा का कहना है कि उत्तर-पूर्व जिले में हालात पूरी तरह सामान्य हैं. जहां धारा 144 लागू है, उसमें ढील दी गई है. बता दें कि रविवार शाम होते ही तमाम जगहों से हिंसा की अफवाह उड़ी. इसके चलते मंगोलपुरी की तरफ लोगों ने डर की वजह से दुकानें बंद कर दीं. इसके अलावा जैतपुर, बदरपुर, शाहीन बाग, सुभाष नगर, ख्याला, मंगोलपुरी, रोहिणी अवन्तिका में अफवाह ने जोर पकड़ा. लेकिन हिंसा जैसी कोई बात सामने नहीं आई.

शाहीन बाग में एहतियाती कदम के तहत भारी संख्या में पुलिस बल तैनात
दिल्ली पुलिस ने दक्षिणपूर्वी दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में रविवार को एहतियात के तौर पर सुरक्षा बलों की भारी तैनाती की, जहां कई महिलाएं संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ दो महीने से अधिक समय से प्रदर्शन का नेतृत्व कर रही हैं. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि इलाके में धारा 144 भी लगा दी गई है. पुलिस की यह तैनाती तब की गई है जब दक्षिणपंथी समूह हिंदू सेना ने एक मार्च को शाहीन बाग रोड खाली कराने का आह्वान किया. हालांकि शनिवार को पुलिस के हस्तक्षेप के बाद उन्होंने शाहीन बाग में सीएए विरोधी आंदोलन के खिलाफ अपना प्रस्तावित प्रदर्शन वापस ले लिया. पुलिस उपायुक्त (दक्षिणपूर्व) आर पी मीणा ने कहा कि समय से किए हस्तक्षेप के कारण प्रस्तावित प्रदर्शन रद्द कर दिया गया, लेकिन हमने यहां एहतियातन भारी पुलिस बल तैनात किया है. अधिकारी ने बताया कि महिला सुरक्षाकर्मियों की दो कंपनियों समेत सुरक्षाबलों की 12 कंपनियों को शाहीन बाग में तैनात किया गया है. स्थानीय पुलिस के साथ चार पुलिस जिलों के 100-100 पुलिसकर्मियों को भी तैनात किया गया है.

15 दिसंबर से प्रदर्शन स्थल बना हुआ है शाहीन बाग
हिंदू सेना ने एक बयान में कहा कि पुलिस ने शाहीन बाग आंदोलन के खिलाफ रविवार के उनके प्रदर्शन को वापस लेने का उन पर दबाव बनाया. शाहीन बाग के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर कहा गया कि शाहीन बाग जसोला विहार में धारा 144 लागू होने की वजह से आज के शांति मार्च को टाल दिया गया है. हमारा शांतिपूर्ण प्रदर्शन जारी रहेगा. हमारे साथ आइए. जामिया मिल्लिया इस्लामिया के समीप शाहीन बाग संशोधित नागरिकता कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजी के खिलाफ लोगों के एक वर्ग का 15 दिसंबर से प्रदर्शन स्थल बना हुआ है.