नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी ने शनिवार को दिल्ली पुलिस पर आरोप लगाया कि वह अपने ‘‘राजनीतिक आका’’ के इशारे पर काम कर रही है. आप ने कह कहा कि सिग्नेचर ब्रिज के उद्घाटन के समय हुए हंगामे के संबंध में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर रही है लेकिन भाजपा नेता मनोज तिवारी के खिलाफ नहीं. हालांकि शिकायत में मनोज तिवारी को भी आरोपी बनाया गया है.

इस बारे में दिल्ली पुलिस ने कहा कि वह उचित प्रक्रिया का पालन कर रही है और चार नवम्बर को हंगामे से संबंधित मामले की जांच की जा रही है. आप नेताओं आतिशी और राघव चड्ढा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में उस वीडियो का जिक्र करते नजर आए जिसमें मनोज तिवारी कथित रूप से लोगों को भड़काते हुए दिख रहे हैं. इसके बाद आप के संजय सिंह ने एक ट्वीट किया जिसमें दिल्ली पुलिस को कड़ी फटकार लगाई गई है.

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने पहचान जाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया कि पूर्वी दिल्ली के भाजपा कार्यकर्ता बी.एन. झा की शिकायत पर खान के खिलाफ और तिवारी की शिकायत पर केजरीवाल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने कहा कि तीसरी एफआईआर आप कार्यकर्ता तौकीर की शिकायत पर तिवारी के खिलाफ दर्ज किया गया है.

पुलिस ने कहा कि सभी एफआईआर मंगलवार को दर्ज किए गए, लेकिन शनिवार को उसे आगे की जांच के लिए अपराध शाखा को स्थानांतरित किया गया. अधिकारी ने कहा कि अगले कुछ दिनों में खान को पूछताछ के लिए तलब किया जाएगा, जिससे विवाद की कड़ी का पता लगाया जा सके.

उन्होंने कहा कि पुलिस इसके बजाय केजरीवाल के खिलाफ एक मामला दर्ज कर रही है और ‘‘आंख बंद करके’’ वे धाराएं लगा रही है जिनका उल्लेख तिवारी ने विभाग को भेजे एक ईमेल में किये थे. चड्ढा ने कहा कि अरविंद केजरीवाल की दिल्ली सरकार ड्यूटी के दौरान जान गंवाने वाले पुलिस अधिकारी के परिवार को एक करोड़ रूपये की आर्थिक मदद देती है जबकि भाजपा नेता वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का अपमान करते हैं, हमला करते हैं, फिर भी वे दंडित नहीं होते.

(इनपुट एजेंसी)