नई दिल्लीः बहुचर्चित निजामुद्दीन मरकज (Nizamuddin Markaz Case) मामले में दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच बड़ा एक्शन लेने की तैयारी में है. दिल्ली पुलिस निजामुद्दीन मरकज के कार्यक्रम में पहुंचे करीब 916 विदेशी तब्लीगी जमातियों (Chrage Sheet against Foreign Tablighi Jamati) के खिलाफ जल्द ही चार्जशीट दायर करने वाली है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज कार्यक्रम में शामिल हुए अधिकतम जमाती टूरिस्ट वीजा पर भारत आए थे, लेकिन यहां आने के बाद ये धार्मिक गतिविधियों में शामिल हो गए. ऐसे में अब दिल्ली पुलिस इन विदेशी जमातियों पर वीजा नियमों के उल्लंघन के तहत चार्जशीट दायर करेगी. Also Read - WHO ने कोरोना के हवा में फैलने के मामले को लेकर जारी की गाइडलाइंस, साथ ही कही ये बात

इस कार्रवाई के तहत दिल्ली पुलिस इन सभी जमातियों के पासपोर्ट और दूसरे दस्तावेज जब्त कर सकेगी. दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में ये 916 जमाती करीब 67 देशों से पहुंचे थे, जिनमें से अधिकतम कोरोना से संक्रमित पाए गए थे. इसके बाद पूरे देश में हाहाकार मच गया था. ना सिर्फ दिल्ली सरकार बल्कि केंद्र सरकार को भी बहुचर्चित निजामुद्दीन मरकज मामले के बाद आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का उल्लघंन करते हुए हजारों की संख्या में यहां जमाती जुटे हुए थे. Also Read - यूजीसी को परीक्षाएं रद्द कर विद्यार्थियों को पहले के प्रदर्शन के आधार पर प्रोन्नत कर देना चाहिए: राहुल

बता दें, दिल्ली पुलिस लगभग सभी तब्लीगी जमातियों से पूछताछ कर चुकी है. जिनमें से कई का कहना है कि वह पहले ही वापस जा रहे थे, लेकिन मौलाना साद के कहने पर वह रुक गए. ईलाज के बाद अब सभी विदेशी जमाती ठीक हो चुके हैं और उनका क्वारंटाइन पीरियड भी खत्म हो चुका है. इससे पहले दिल्ली पुलिस दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज के मास्टरमाइंड मौलाना साद (Maulana Saad) से जुड़े 5 लोगों के पासपोर्ट और अन्य दस्तावेज जब्त कर चुकी है. मौलाना साद से जुड़े से पांचों लोग नामजद आरोपी भी हैं. Also Read - Coronavirus in Rajasthan Update: राजस्थान में नहीं थम रहा कोरोना का संक्रमण, 115 नए मामले, चार लोगों ने गंवाई अपनी जान