Bhim Army Chief Chandra Shekhar Azad Grants Bail: भीम आर्मी नेता चंद्रशेखर आज़ाद को आखिरकार जमानत मिल गई है. चंद्रशेखर को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट ने जमानत दे दी है. तीस हजारी कोर्ट ने शर्त के साथ जमानत दी है. कोर्ट ने कहा कि दिल्ली में चुनाव हैं. इसे देखते हुए चंद्रशेखर को 4 हफ्ते दिल्ली से दूर रहेंगे. वह चार हफ्ते दिल्ली नहीं आएंगे. चंद्रशेखर इतने समय तक दिल्ली के किसी भी प्रोटेस्ट में हिस्सा नहीं ले सकते हैं. Also Read - केरल सरकार का बड़ा फैसला, नागरिकता कानून और सबरीमाला मामले को लेकर प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मुकदमे वापस होंगे

तीस हजारी कोर्ट (Tis Hazari Court) ने कहा कि चंद्रशेखर 16 फरवरी तक दिल्ली नहीं आ सकते हैं, इसी शर्त पर उनको जमानत दी जा रही है. बता दें कि जामा मस्जिद में एनआरसी को लेकर हुए प्रदर्शन में शामिल होने के दौरान चंद्रशेखर को दिल्ली पुलिस ने अरेस्ट कर लिया था. Also Read - Delhi में 5 राज्‍यों के लोगों की एंट्री पर नियम सख्‍त, प्रवेश करने पर दिखानी होगी Covid-19 की Negative Test Report

पीएम मोदी अपने माता-पिता का जन्म प्रमाणपत्र दिखाएं, हम अपने सारे दस्तावेज दे देंगे: दिग्विजय सिंह Also Read - अखिलेश यादव ने की चंद्रशेखर से मुलाकात, तीन मुलाकातों के बाद क्या बन रहे गंठबंधन के आसार

इस मामले को लेकर एक दिन पहले ही दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस (Delhi Police) को कड़ी फटकार (Delhi High Court slams Delhi Police) लगाई थी. दिल्ली पुलिस से हाईकोर्ट ने कहा था कि जामा मस्जिद पाकिस्तान में नहीं (Jama Masjid in not in Pakistan) है, जो वहाँ प्रोटेस्ट नहीं हो सकता है. हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से ये भी पूछा कि संविधान में ऐसा कहाँ लिखा है कि किसी धार्मिक स्थल के सामने प्रोटेस्ट नहीं कर सकते. हाईकोर्ट का इशारा मस्जिद की ओर था. हाईकोर्ट ने कहा कि अगर शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया जा रहा है तो इसमें क्या दिक्कत है. ये कहीं भी हो सकता है. चाहे धार्मिक स्थल ही क्यों न हो.

भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर आज़ाद को अरेस्ट कर लिया था

दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने ये बात दरियागंज में हुए प्रदर्शन और हिंसा के मामले में कही. दिल्ली पुलिस ने जामा मस्जिद में हुए नागरिकता क़ानून (CAA) के विरोध के लिए हुए प्रोटेस्ट के दौरान भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर आज़ाद (Chandra Shekhar Azad) को अरेस्ट कर लिया था. चंद्रशेखर आज़ाद ने जामा मस्जिद में हुए प्रोटेस्ट में हिस्सा लिया था. वह भीमराव आंबेडकर की तस्वीर लेकर भीड़ के बीचों-बीच दिखाई दिए थे. इसी दौरान पुलिस ने उन्हें अरेस्ट कर लिया था.