नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मंगलवार को द्विपक्षीय संबंधों के सभी आयामों पर व्यापक वार्ता शुरू की, जिसमें रक्षा, सुरक्षा, कारोबार एवं निवेश सहित अन्य क्षेत्रों में सहयोग शामिल हैं. मोदी और ट्रंप द्विपक्षीय वार्ता करने के लिए हैदराबाद हाउस पहुंचे. दोनों नेताओं के बीच बातचीत का उद्देश्य भारत-अमेरिका वैश्विक साझेदारी को विस्तार देना है. Also Read - सेना के आदेश से बचने के लिए म्यांमार के तीन पुलिस अधिकारियों ने ली मिजोरम में शरण, कई और लोग भी आए

पीएम नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली के हैदराबाद हाउस में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और उनकी पत्‍नी मेलानिया ट्रंप का स्‍वागत किया. प्रधानमंत्री मोदी ने अपने निमंत्रण पर भारत आने के लिए अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का शुक्रिया अदा किया, जबकि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री मोदी से कहा, यह देखकर बड़ा गर्व हुआ कि मेरे स्वागत में हजारों लोग एकत्रित हुए, लोग आपसे प्यार करते हैं. Also Read - Ease of Living Index: रहने के लिए सबसे अच्छा है देश का यह शहर, सरकार ने जारी की लिस्ट

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि पिछले दो दिन में विशेषकर कल स्टेडियम में, यह मेरे लिए बहुत सम्मान की बात थी. लोग शायद मेरे लिए बजाय आपके (पीएम मोदी) लिए शायद ज्यादा थे. 125 हजार लोग अंदर थे. हर बार जब मैंने आपका उल्लेख किया, तो उन्होंने और अधिक खुश किया. लोग आपको यहां बहुत प्यार करते हैं. Also Read - WATCH: मैदान पर भिड़े विराट कोहली-बेन स्टोक्स; अंपायर को रोकना पड़ा झगड़ा

पीएम मोदी ने कहा, राष्ट्रपति ट्रंप और उनके डेलीगेशन का भारत में एक बार फिर हार्दिक स्वागत है. मुझे विशेष खुशी है की इस यात्रा पर वो अपने परिवार के साथ आए हैं. पिछले आठ महीनों में राष्ट्रपति Trump और मेरे बीच ये 5 वीं मुलाकात है. पीएम ने कहा, हमने भारत-अमेरिकी संबंधों को व्यापक वैश्विक साझेदारी के स्तर तक ले जाने का फैसला किया है.

कल मोटेरा में राष्ट्रपति Trump का unprecedented और Historical Welcome हमेशा याद रखा जाएगा. कल ये फिर से स्पष्ट हुआ कि अमेरिका और भारत के संबद्ध सिर्फ दो सरकारों के बीच नहीं हैं, बल्कि People-driven हैं, People-centric हैं.

पीएम मोदी ने कहा, यह संबंध, 21वीं सदी की सबसे महत्वपूर्ण पार्टनरशिप्स में है. और इसलिए आज राष्ट्रपति Trump और मैंने हमारे सम्बन्धों को Comprehensive Global Strategic Partnership के स्तर पर ले जाने का निर्णय लिया है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति ट्रंप का ऐतिहासिक और भव्य स्वागत हमेशा याद रखा जाएगा. अमेरिका और भारत के संबंध सिर्फ दो सरकारों के बीच नहीं हैं, बल्कि लोक केंद्रित हैं. यह संबंध, 21वीं सदी का सबसे महत्वपूर्ण गठजोड़ है.

मोदी ने कहा, राष्ट्रपति ट्रंप ने मादक पदार्थ और इससे जुड़ी समस्याओं से लड़ाई को प्राथमिकता दी है. आज हमारे बीच मादक पदार्थो की तस्करी, मादक पदार्थ से जुड़े आतंकवाद और संगठित अपराध जैसी गम्भीर समस्याओं के बारे में एक नए तंत्र पर भी सहमति बनी. प्रधानमंत्री ने कहा कि आतंकवाद के समर्थकों को जिम्मेदार ठहराने के लिए आज हमने अपने प्रयासों को और आगे बढ़ाने का निश्चय किया है. उन्होंने कहा, आज राष्ट्रपति ट्रंप और मैंने हमारे सम्बन्धों को समग्र वैश्विक सामरिक गठजोड़ के स्तर पर ले जाने का निर्णय लिया है.

भारत, अमेरिका ने तीन समझौतों पर हस्ताक्षर किए
भारत और अमेरिका ने मंगलवार को तीन समझौता पत्रों पर हस्ताक्षर किए, जिसमें से एक समझौता ऊर्जा क्षेत्र से संबंधित है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जोर देकर कहा कि दोनों देशों ने अपने संबंधों को समग्र वैश्विक सामरिक गठजोड़ के स्तर पर ले जाने का निर्णय लिया है. प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त संवाददाता संबोधन में कहा कि कुछ ही समय पहले स्थापित हमारा सामरिक ऊर्जा गठजोड़ सुदृढ़ होता जा रहा है और इस क्षेत्र में आपसी निवेश बढ़ा है.

हमने तीन अरब डॉलर के रक्षा समझौतों को अंतिम रूप दिया: ट्रंप
राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि उनके लिए यह यात्रा अविस्मरणीय, असाधारण और सार्थक रही. ”हमने तीन अरब डॉलर के रक्षा समझौतों को अंतिम रूप दिया.

कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद से निपटने में सहयोग करने को सहमत हुए
अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने कहा, हम कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद से निपटने में सहयोग करने को सहमत हुए. हमने 5जी दूरसंचार प्रौद्योगिकी, हिंद-प्रशांत में स्थिति पर भी चर्चा की.”

भारत अमेरिका गठजोड़, नवोन्मेष और उद्यमिता के नए मुक़ाम
दूसरी ओर, मोदी ने कहा कि तेल और गैस के लिए अमेरिका भारत का एक बहुत महत्वपूर्ण स्त्रोत बन गया है. उन्होंने कहा ” उद्योग 4.0 और 21वीं शताब्दी की अन्य उभरती प्रौद्योगिकी पर भी भारत अमेरिका गठजोड़, नवोन्मेष और उद्यमिता के नए मुक़ाम स्थापित कर रहा है.”

अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के लिए यह सहयोग विशेष महत्व रखता है
प्रधानमंत्री ने कहा, ”भारतीय पेशेवरों की प्रतिभा ने अमरीकी कंपनियों के प्रौद्योगिकी नेतृत्व को मजबूत किया है. वैश्विक स्तर पर भारत और अमेरिका का सहयोग हमारे समान लोकतांत्रिक मूल्यों और उद्देश्यों पर आधारित है। ख़ासकर हिन्द प्रशांत क्षेत्र में नियम आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के लिए यह सहयोग विशेष महत्व रखता है.’’

अमेरिका में भारतीय समुदाय का बड़ा योगदान
मोदी ने कहा ‘‘भारत और अमेरिका की इस विशेष मित्रता की सबसे महत्वपूर्ण नींव हमारे लोगों से लोगों के बीच संबंध है. चाहे वो पेशेवर हों या छात्र हो, अमेरिका में भारतीय समुदाय का इस में सबसे बड़ा योगदान रहा है.’’ इससे पहले, मीडिया के समक्ष संक्षिप्त टिप्पणी में प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति का स्वागत करते हुए भारत आने के लिए समय निकालने पर उनका आभार व्यक्त किया और उन्हें धन्यवाद दिया.

महात्मा गांधी के समाधि स्थल राजघाट पर पुष्पांजलि अर्पित की
दो दिवसीय भारत यात्रा पर आए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनकी पत्नी मेलानिया का मंगलवार को यहां राष्ट्रपति भवन में पारंपरिक तरीके से भव्य स्वागत किया गया. राष्ट्रपति के तौर पर भारत की अपनी पहली यात्रा पर आए ट्रंप ने सलामी गारद का निरीक्षण किया और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के समाधि स्थल राजघाट पर पुष्पांजलि अर्पित की.

राष्ट्रपति ने घोषणा की थी कि तीन अरब डॉलर किए जाएंगे
बता दें कि अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में आयोजित ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में सोमवार को अमेरिकी राष्ट्रपति ने घोषणा की थी कि तीन अरब डॉलर कीमत के अत्याधुनिक सैन्य हेलि‍कॉप्टर और अन्य उपकरणों के लिए मंगलवार को समझौते किए जाएंगे. ट्रंप के साथ उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप, पुत्री इवांका, दामाद जेरेड कुश्नर और उनके प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी आए हुए हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति ने दोनों देशों के बीच रक्षा और रणनीतिक संबंधों के बारे में कहा था कि अमेरिका भारत को दुनिया के कुछ सर्वश्रेष्ठ और कुछ शानदार सैन्य उपकरण उपलब्ध कराने को लेकर उत्सुक है.

24 एमएच-60 रोमियो हेलि‍काप्टर की 2.6 अरब डॉलर की खरीद शामिल हैं
ट्रंप ने कहा था, ”हम अब तक के कुछ श्रेष्ठ उपकरण बनाते हैं, विमान, मिसाइलें, रॉकेट, पोत. हम अब भारत के साथ सौदा कर रहे हैं. इसमें उन्नत वायु रक्षा प्रणाली और सशस्त्र और बिना शस्त्र वाले एरियल व्हीकल शामिल हैं.” ट्रंप के उल्लेखित सौदे में भारत द्वारा अमेरिका से 24 एमएच-60 रोमियो हेलि‍काप्टर की 2.6 अरब अमेरिकी डालर में खरीद शामिल है. एक अन्य सौदा छह एएच 64 ई अपाचे हेलि‍काप्टर को लेकर है, जो 80 करोड़ डालर का होगा.