नई दिल्ली: अगर दिल्ली चुनाव के नतीजे किसी सांसद के प्रदर्शन का पैमाना है, तो भाजपा के विवादास्पद सांसद प्रवेश वर्मा ने शून्य का अंक हासिल किया है. उनके पश्चिम दिल्ली संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली सभी 10 सीटों में से भाजपा ने एक भी सीट नहीं जीत पाई है. आपको बता दें कि प्रवेश वर्मा के शाहीन बाग के प्रदर्शन पर दिए बयान पर काफी विवाद हुआ था. चुनाव आयोग ने उन पर 48 घंटे का बैन भी लगाया था. उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को आतंकी-नक्सली तक कह दिया था. Also Read - Bhopal Lockdown Update: भोपाल में भी एक हफ्ते बढ़ाया गया लॉकडाउन, अब 24 मई तक पाबंदी

तिलक नगर, जनकपुरी, मादीपुर, राजौरी गार्डन, हरिनगर, विकासपुरी, उत्तमनगर, द्वारका, मटियाला और नजफगढ़ सभी सीटों पर आप उम्मीदवारों ने अपनी मजबूत बढ़त बनाई हुई है. हरिनगर सीट से तजिंदर बग्गा भी चुनाव हार गए हैं, जहां वर्मा ने चुनावी अभियान को धार देने के लिए कई राउंड का प्रचार किया था. Also Read - Salman Khan की 'राधे' बनी रिलीज के दिन सबसे ज्यादा देखी जाने वाली फिल्म! दुनियाभर में साबित हुई ब्लॉकबस्टर

उसी तरह से तिलक नगर से भाजपा के राजीव बब्बर को भी हार का सामना करना पड़ा. 2019 आम चुनाव में, भाजपा ने राजीव बब्बर को पूर्वी दिल्ली संसदीय क्षेत्र का प्रभारी बनाया था. बब्बर ने भाजपा कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण दिया था, लेकिन 2020 में खुद प्रदर्शन करने में नाकाम हो गए. Also Read - Haryana Lockdown Extension: हरियाणा में लॉकडाउन बढ़ाया गया, सख्‍ती जारी

जनकपुरी से आशीष सूद को भी आप के राजेश ऋषि ने करीब 50,000 मतों के ज्यादा अंतर से पछाड़ दिया है.

इस बुरी हार ने भाजपा के मुख्य चुनावी एजेंडे ‘शाहीनबाग’, अनधिकृत कॉलोनियों के नियमितीकरण पर सवाल खड़े कर दिए हैं. इनमें से 1700 अनधिकृत कॉलोनियां वर्मा के क्षेत्र में आती हैं. यहां तक कि उनकी क्षमता और आक्रामक चुनाव प्रचार पर भी सवाल उठाए जा सकते हैं.

(इनपुट आईएएनएस)