S Muralidhar Transfer: दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) के न्यायाधीश एस. मुरलीधर (S Muralidhar) का पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में तबादला कर दिया गया है. सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने कुछ दिन पहले ही उनके स्थानांतरण की सिफारिश की थी. एक दिन पहले ही न्यायाधीश मुरलीधर ने दिल्ली पुलिस को हिंसा (Delhi Violence) को लेकर कड़ी फटकार लगाई थी. इस बीच मुरलीधर के तबादले की टाइमिंग पर सवाल उठाए जा रहे हैं. बता दें कि दिल्ली हाईकोर्ट में आज फिर से दिल्ली हिंसा मामले की सुनवाई होनी है. Also Read - निर्भया मामला: फांसी से कुछ घंटे पहले दोषियों का नया पैंतरा, उच्च न्यायालय का किया रुख

हाईकोर्ट ने दिल्ली हिंसा पर कहा- एक और ’84’ नहीं होने देंगे, तीन BJP नेताओं के ख़िलाफ़ FIR दर्ज हो Also Read - दिग्‍व‍िजय सिंह ने कर्नाटक HC में याचिका दायर की, जवाब में बीजेपी ने EC को भेजी शिकायत

न्यायमूर्ति मुरलीधर दिल्ली हिंसा मामले की सुनवाई कर रहे थे और यह अधिसूचना ऐसे दिन जारी की गई जब उनकी अगुवाई वाली पीठ ने कथित रूप से नफरत फैलाने वाले भाषणों को लेकर तीन भाजपा नेताओं के खिलाफ दिल्ली पुलिस के प्राथमिकी दर्ज नहीं करने पर ‘नाराजगी’ जताई थी. उन्होंने दिल्ली पुलिस से कहा था कि इतने दिन तक हिंसा के बीच आखिर अब तक कोई भी एफआईआर दर्ज क्यों नहीं की गई. न्यायाधीश ने विवादित बयानबाजी करने पर बीजेपी के तीन नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए थे. Also Read - निर्भया मामला: दोषी मुकेश पहुंचा हाइकोर्ट, कहा- वारदात के वक्त दिल्ली में नहीं था मौजूद

विधि एवं न्याय मंत्रालय की ओर से जारी अधिसूचना में कहा गया है कि राष्ट्रपति ने प्रधान न्यायाधीश से विचार-विमर्श के बाद यह फैसला किया. अधिसूचना में हालांकि, यह जिक्र नहीं किया गया है कि न्यायमूर्ति मुरलीधर पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में अपना कार्यभार कब संभालेंगे.

बता दें कि हिंसा के बीच दिल्ली पुलिस भी भूमिका पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं. तीन दिन तक हुई हिंसा के बाद अब पूर्वी-उत्तर दिल्ली में शांति है. बुधवार और रात में हिंसा की घटनाओं की खबर नहीं आई है. आज दिल्ली हिंसा मामले की हाईकोर्ट में सुनवाई होनी है. एक दिन पहले हाई कोर्ट ने पुलिस की कड़ी फटकार लगाई थी. हिंसा में तीन दिनों में 28 लोगों की मौत हो चुकी है. कई इलाकों में कर्फ्यू लगा हुआ है.

दिल्ली हिंसा: ममता बनर्जी ने लिखी कविता- ‘पवित्र धरा नर्क में बदल रही है, क्या ये लोकतंत्र का अंत है’

उत्तर-पूर्वी दिल्ली जिले में भड़की हिंसा के मामले में पुलिस ने बुधवार तक 18 एफआईआर अलग-अलग थानों में दर्ज कर ली हैं. अब तक हिंसा फैलाने वालों में जिन आरोपियों की पहचान हुई है, उनमें से 106 को गिरफ्तार कर लिया गया है. जबकि हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 28 हो गई है. दिल्ली पुलिस ने पुलिस मुख्यालय में आयोजित एक प्रेस-कान्फ्रेंस में यह जानकारी दी.