नई दिल्ली: गृह मंत्रालय ने गुरूवार रात कहा कि पिछले 36 घंटे में उत्तर पूर्वी दिल्ली से कोई बड़ी घटना सामने नहीं आई है. गृह मंत्रालय ने रात करीब 10 बजे यह बयान जारी किया. इससे पहले गृह मंत्री अमित शाह ने वरिष्ठ अधिकारियों और आला पुलिस अफसरों के साथ बैठक में राजधानी के हिंसा प्रभावित क्षेत्रों के हालात का जायजा लिया. Also Read - गृह मंत्रालय ने बदले नियम : प्रवासी मजदूरों के भोजन, ठहरने की व्यवस्था के लिए राज्य आपदा राहत कोष का इस्तेमाल करें

  Also Read - गृह मंत्रालय ने जारी किया एसओपी, कहा- छोटी दुकानों, खुदरा बिक्री केंद्र की सेवाओं में नहीं आएगी बाधा

मंत्रालय ने कहा कि दिल्ली के उत्तर पूर्व जिले के किसी प्रभावित थाना क्षेत्र से पिछले 36 घंटे में कोई बड़ी घटना सामने नहीं आई है, वहीं 514 संदिग्धों को या तो गिरफ्तार किया गया है या पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है. गृह मंत्रालय ने कहा कि जांच के साथ-साथ और भी गिरफ्तारियां की जा सकती हैं. उसने कहा कि हालात में सुधार देखते हुए सीआरपीसी की धारा 144 के तहत लागू निषेधाज्ञा में शुक्रवार को कुल दस घंटे की ढील दी जाएगी.

उपराज्यपाल बैजल ने विशेष पुलिस आयुक्त को पीड़ित परिवारों से मिलने को कहा
दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने बृहस्पतिवार को दिल्ली की विशेष पुलिस आयुक्त (सतर्कता) को हिंसा का शिकार हुए परिवारों से मिलने और उन्हें हरसंभव सहायता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है. एक अधिकारी ने बताया कि बैजल ने पूर्वी दिल्ली नगर निगम, स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों से विशेष पुलिस आयुक्त (सतर्कता) सुंदरी नंदा को उनके निरीक्षण के दौरान मदद करने का निर्देश दिया. इससे पहले बैजल ने आज उत्तर पूर्वी दिल्ली में कानून व्यवस्था के हालात पर एक समीक्षा बैठक की. उन्होंने पुलिस को पर्याप्त बल तैनात करने, गश्त करने और किसी भी स्थिति में तुरत-फुरत प्रतिक्रिया के लिए तैयार रहने के साथ ही प्राथमिकी दर्ज कर तेजी से जांच शुरू करने के निर्देश दिये. एक सरकारी बयान के अनुसार बैजल ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि धार्मिक स्थलों, स्कूलों, पेट्रोल पंपों तथा एलपीजी गोदामों जैसे संवेदनशील स्थानों पर कड़ी नजर रखी जाए.