नई दिल्‍ली: बीते दिनों देश की राजधानी में दिल्‍ली के उत्‍तर-पूर्व क्षेत्र में हुई हिंसा में आज गुरुवार 5 मार्च शाम तक मृतकों की संख्‍या 53 हो गई. वहीं, विभिन्‍न मामलों में अब तक 1,820 लोग गिरफ्तार किए गए या हिरासत में लिए गए हैं. ताजा जानकारी के मुताबिक, 44 मौतें जीटीबी हॉस्‍पिटल, 5 राम मनोहर लोहिया अस्‍पताल, 3 मौतें एलएनजेपी हॉस्‍पिटल और एक मौत जग प्रवेश चंद्रा अस्‍पताल में हुई है. Also Read - मौलाना साद को गिरफ्तार नहीं करेगी दिल्ली पुलिस, सामने आए तो क्वारंटाइन में रखा जाएगा

वहीं, दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस को निर्देश दिया कि वह लापता व्यक्ति का पता लगाने के लिए सभी प्रयास करें और पूर्वोत्तर दिल्ली में हुई हिंसा के बाद मोर्चरी में रखे गए सभी अज्ञात शवों का विवरण प्रकाशित करें. Also Read - Coronavirus: बीते 24 घंटे में सबसे ज्‍यादा 478 संक्रमण के मामले आए, कुल आंकड़ा 2500 के पार

दिल्‍ली पुलिस के मुताबिक, दिल्‍ली में हुई हिंसा के मामले में 654 केस दर्ज किए गए है, जिनमें 47 आर्म्‍स एक्‍ट के तहत दर्ज हुए हैं. पुलिस ने अब तक 1,820 लोगों को गिरफ्तार किया है या हिरासत में लिया है. Also Read - निजामुद्दीन मरकज को खाली कराने वाली टीम में शामिल रहे दिल्‍ली पुलिस के 7 जवान छुट्टी पर भेजे गए

इससे पहले बीते बुधवार 4 मार्च तक दिल्ली पुलिस ने सांप्रदायिक हिंसा के सिलसिले में बुधवार तक 531 प्राथमिकियां दर्ज की थीं और 647 लोगों को गिरफ्तार किया था या हिरासत में लिया था. बुधवार तक इस हिंसा में मारे गए लोगों की संख्‍या 42 बताई गई थी. एक अधिकारी ने बताया कि शस्त्र अधिनियिम के तहत 47 मामले दर्ज किए गए हैं.

संशोधित नागरिकता कानून के विरोध में उत्तरपूर्वी दिल्ली में हुई सांप्रदायिक हिंसा में अब तक 53 लोगों की मौत हुई है और 200 से अधिक लोग घायल हुए हैं. पुलिस ने कहा कि दंगा प्रभावित इलाकों में हालात नियंत्रण में हैं. दंगा प्रभावित इलाकों में सुरक्षा बलों की तैनाती बनी हुई है. वे नियमित रूप से फ्लैग मार्च कर रहे हैं, ताकि शांति बनी रहे.