नई दिल्ली : दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने विशेष पुलिस आयुक्त (अपराध) को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि राष्ट्रीय राजधानी के सबसे बड़े रेडलाइट इलाके जीबी रोड में मानव तस्करी को बढ़ावा देने में स्थानीय थाना संलिप्त है. मालीवाल ने कहा है कि थाने में कर्मचारियों की जल्दी-जल्दी बदली होनी चाहिए और संवेदनशील इलाकों में सिर्फ सक्षम अधिकारियों को तैनात किया जाना चाहिए. Also Read - लॉकडाउन: नहीं मिली एंबुलेंस, पुलिस वैन ही बना लेबर रूम, महिला ने बच्ची को दिया जन्म

महिला आयोग ने एक बयान में कहा कि मालीवाल ने थाने के पास और जीबी रोड के मुख्य इलाकों में सीसीटीवी कैमरे लगाने की भी मांग की. उन्होंने जीबी रोड के संबंध में मानव तस्करी के दर्ज किए गए विभिन्न मामलों में दिल्ली पुलिस की ओर से की गई चूकों को भी रेखांकित किया. Also Read - Delhi पुलिस का कांस्टेबल Coronavirus से हुआ संक्रमित, IGI एयरपोर्ट के टर्मिनल-3 पर था तैनात

नए पार्टी दफ्तर के लिए कांग्रेस के पास नहीं है पैसा, ‘क्राउड फंडिग’ का लेगी सहारा Also Read - Coronavirus: दिल्‍ली पुलिस ने लगाए शबे-ए-बारात के ऐसे पोस्‍टर, कहा- घरों से बाहर न आएं

इसमें बताया गया है कि आयोग द्वारा बचाई गई महिलाओं ने कहा है कि पुलिस अधिकारी छापा मारने से पहले वेश्यालय के मालिकों को सूचित कर देते हैं. आयोग ने कहा कि अश्फाक नाम के आरोपी की गिरफ्तारी के बाद आरोपी से कथित तौर पर जुड़ाव रखने के कारण स्थानीय कमला मार्केट थाने से 42 अधिकारियों का तबादला किया गया था. मालीवाल ने यह जानना चाहा कि पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई क्यों नहीं हुई.

पीएम मोदी की विदेश यात्रा पर खर्च हुए इतने सौ करोड़, अब तक की 84 देशों की यात्रा

उन्होंने कहा कि बचाई गई एक लड़की की शिकायत पर मध्य दिल्ली के पुलिस उपायुक्त की जांच में कमला मार्केट थाने के करीब 50 प्रतिशत कर्मचारियों का वेश्यालयों के मालिकों और प्रबंधकों के साथ संपर्क में रहने का पता चला.