नई दिल्ली: क्या सरकार 1000 रुपये के नए नोट लेकर आ रही है? 2016 में 1000 रुपये के करेंसी नोट चलन से बाहर हो गए थे और उनकी जगह 2000 रुपये के नोट लाए गए थे. लेकिन हाल ही में RBI द्वारा 2,000 रुपये के नोटों की छपाई पर रोक लगाने के बारे में खबरें आई हैं. तब से ही लगातार सोशल मीडिया पर 1000 रुपये के नोट की तस्वीर वायरल हो रही है और बताया जा रहा है कि जल्द ही यह नोट प्रचलन में आने वाला है.

अखिल चतुर्वेदी नाम के एक फेसबुक यूजर ने 1000 रुपये के नोट की एक तस्वीर अपलोड की और लिखा, 1000 रुपये का नया नोट पहले अपने ग्रुप के पास. नोट की तस्वीर के बीच में एक रुपये की छवि जैसी वृताकार आकार दिखाई दे रही है. नोट के दाईं ओर भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मुहर के साथ बाईं ओर महात्मा गांधी की तस्वीर दिखाई दे रही है. 1000 रुपये के नए नोट वाली खबर पर विश्वास करने वाले लोगों व अन्य फेसबुक यूजर्स का कहना है कि- मुद्रा के साथ लगातार होने वाले बदलावों को केवल देश की मुद्रा के साथ मजाक माना जा सकता है.

सोशल मीडिया पर लोग लगातार सरकार पर सवाल उठा रहे हैं. उनका प्रश्न यह है कि क्या एक बार फिर से उन्हें नोटबंदी का सामना करना पड़ेगा. क्या 2000 रुपये के नोट की होगी नोटबंदी? क्या अब ATM से नहीं निकलेगा 2000 रुपये का नोट? क्या जनवरी 2020 से फिर आएगा 1000 रुपये का नोट? क्या RBI 2000 रुपये के नोट वापस ले रही है? क्या 31 दिसंबर 2019 तक आप अपने 2000 के नोट को बैंको में बदल सकते हैं? क्या आप एक बार में सिर्फ 50 हजार के नोट बदल सकते है? इस तरह के तमाम सवाल सोशल मीडिया पर सर्कुलेट हो रहे हैं और लोग धड़ल्ले से 1000 रुपये के नए नोट की तस्वीर को शेयर कर रहे हैं.

बता दें कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे नोट की तस्वीर फेक है. इस नोट को सॉफ्टवेयर की मदद स एडिट किया गया है और इसे सोशल मीडिया पर फैलाया गया है. यह नोट फर्जी इसलिए है क्योंकि नोट के ठीक नीचे लिखा है- मैं धारक को एक हजार रुपये अदा करने का वचन देता हूं. इस लाइन के अंत में रुपये गलत लिखा गया है. अगर यह नोट असली होता, तो रुपये की मात्रा में गलती न होती. वायरल नोट  में वर्तमान आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास के बजाय महात्मा गांधी के हस्ताक्षर हैं. इसलिए यह नोट फेक है.

आरबीआई के संचार विभाग के मुख्य महाप्रबंधक योगेश दयाल के एक इंटरव्यू के अनुसार- हमारी ओर से 1000 रुपये की नोट की कोई सूचना जारी नहीं की गई है. इस तरह की सभी जानकारियां आरबीआई की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं. अन्य किसी प्रकार की सूचना भी आरबीआई की अधिकारिक वेबसाइट पर आपको मिल जाएगी. उन्होंने लोगों से इस तरह की अफवाहों पर विश्वास न करने की सलाह दी.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 की रात 8 बजे नोटबंदी का ऐलान किया था. उन्होंने अपने भाषण में कहा था कि 1000 और 500 रुपये नोट अब से बंद कर दिए जाएंगे. उसके कुछ दिन बाद ही हिंदुस्तान में पहली बार 2000 रुपये के नोट का प्रचलन शुरू हुआ था. नोटबंदी के बाद देशभर में बवाल मच गया था. लोग एटीएम और बैंकों में घंटों कतार में खड़े होकर अपनी बारी का इंतजार करने लगे की वे एटीएम से पैसे निकाल पाए या फिर बैंक में अपने पुराने नोट को नए नोट से बदल सके.

इस बड़े नोट को लेकर विपक्ष ने ऐतराज जताते हुए इससे भ्रष्टाचार बढ़ने की संभावना जताई थी. क्या एक बार फिर 2016 की तरह 2000 रुपये की नोटबंदी होने वाली है? क्या अब बैंकों के एटीएम से 2000 का गुलाबी नोट नहीं निकलेगा?