8 Opposition MPs Suspended From Rajya Sabha: राज्यसभा में रविवार को कृषि विधेयक पर चर्चा के दौरान हुए जबरदस्त हंगामे को लेकर विपक्षी दल के आठ सांसदों को सस्पेंड कर दिया गया है. राज्यसभा से सभापति एम वेंकैया नायडू ने टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन (Derek O Brien), आप सांसद संजय सिंह, राजी सातव, केके रागेश, रिपुन बोरा, डोला सेन, सैयद नजीर हुसैन और एलमरन करीम को एक हफ्ते के लिए सस्पेंड कर दिया. जानकारी के अनुसार इन सांसदों के खिलाफ नियम 256 के तहत कार्रवाई की गई है. Also Read - UP Rajya Sabha: भाजपा के 8 प्रत्याशियों ने राज्यसभा के लिए भरा नामांकन, योगी आदित्यनाथ भी थे मौजूद

बता दें कि रविवार को कृषि विधेयक बिल पर चर्चा के दौरान विपक्ष के कई सांसदों ने सदन में जमकर हंगामा किया था. टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन और संजय सिंह बेल में पहुंच गए थे और हंगामा करने लगे थे. वहीं, राजीव सातव महासचिव के सामने टेबल पर चढ़ गए थे.

इसके अलावा विपक्षी सांसदों ने उपसभापति की माइक भी तोड़ दी थी. डेरेके ओ ब्रायन ने आसन के सामने रूल बुक लहराई और फाड़ दी थी. वहीं, कई अन्य सांसदों ने किसान बिल की कॉपी फाड़ कर फेंक दी थी.

इसके अलावा राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने उपसभापति हरिवंश के खिलाफ विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव को खारिज कर दिया. वेंकैया नायडू ने कहा कि प्रस्ताव उचित प्रारूप में नहीं था.

सभापति वेंकैया नायडू ने कहा कि सदन की कार्यवाही के रिकॉर्ड के अनुसार उपसभापति ने सदस्यों को अपने स्थानों पर जाने और सदन में हंगामा नहीं करने तथा अपने संशोधन पेश करने के लिए बार बार कहा था. नायडू के अनुसार, उपसभापति ने यह भी कहा था कि सदस्य अपने स्थानों पर लौट जाएं उसके बाद वह मतविभाजन कराएंगे. उन्होंने कहा कि उनके खिलाफ पेश किया गया प्रस्ताव निर्धारित प्रारूप में नहीं है और इसके लिए जरूरी 14 दिनों के समय का भी पालन नहीं किया गया है.

सभापति ने कहा कि कल हंगामे के दौरान सदस्यों का व्यवहार आपत्तिजनक और असंसदीय था. उन्होंने कहा कि कल का दिन राज्यसभा के लिए बहुत खराब दिन था. इस दौरान सदस्यों ने उपसभापति के साथ अमर्यादित आचरण भी किया. इस दौरान सदन में हंगामा जारी रहा और सरकार ने आठ विपक्षी सदस्यों को मौजूदा सत्र के शेष समय के लिए निलंबित करने का प्रस्ताव पेश किया जिसे सदन ने ध्वनिमत से स्वीकार कर लिया.

बता दें कि रविवार को विपक्ष के भारी हंगामे के बीच राज्यसभा (Rajya Sabha) से भी किसानों से जुड़े दो बिल (Farmers Bills) ध्वनिमत से पास हो गए. राज्यसभा ने जिन दो विधेयकों (Farm Bills) को पास किया वे कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 हैं. अब इस बिल को राष्ट्रपति के पास भेजा जाएगा और वह कानून बन जाएगा.

इससे पहले कृषि मंत्रीभी के बयान के बीच विपक्ष का जोरदार हंगामा देखने को मिला था. इस दौरान विपक्षी सांसदों ने उपसभापति की माइक  तोड़ दी थी. किसान बिल पास होने के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने इसे भारत के कृषि इतिहास में एक बड़ा दिन बताया था.

(इनपुट: भाषा)