rakesh-maria

ललित मोदी को लेकर जारी विवाद में अब एक नया मोड़ आ गया है। अब तक सुषमा और वसुंधरा राजे जैसे नेताओं को लपेटे में ले चुका ललितगेट कांड अब मुंबई पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया को विवादों में खड़ा कर रहा है। खबरों के मुताबिक मुंबई पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया ने आईपीएल के पूर्व प्रमुख से 2014 में लंदन में मुलाकात की थी। मोदी-मारिया की तस्वीर के सामने आते ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने मुंबई पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया से लंदन में उनकी ललित मोदी के साथ मुलाकात को लेकर स्पष्टीकरण मांगा डाला।

ज्ञात हो कि राकेश मुंबई से लंदन एक कॉन्फ्रेंस अटैंड करने गए थे। इसी दौरान ललित मोदी ने अंडरवर्ल्ड से जान से मारने की धमकी मिलने के मद्देनजर मुंबई पुलिस की मदद मांगी थी। सबसे अहम बात यह है की इस पुरे मामले पर विपक्षी कांग्रेस सुषमा और वसुंधरा के इस्तीफे की मांग कर रही है।

इस पुरे मामले की गंभीरता को देखते हुए मुंबई पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया ने सफाई दी है। मारिया ने बताया है कि 2014 में वो ऑफिसियल कांफ्रेंस के लिए लंदन गए थे। वहां ललित मोदी के वकील ने ललित मोदी को अंडरवर्ल्ड से खतरा बताकर मिलने का आग्रह किया था।

उन्होंने कहा, ‘चूंकि 2009-10 में जब मैं क्राइम का संयुक्त आयुक्त था तब हमने ललित मोदी को अंडरवर्ल्ड से खतरे पर आगाह किया था। जांच भी की थी। ललित मोदी से मेरी 15 से 20 मिनट तक मुलाकात हुई थी। मोदी ने मुझसे मामले में मदद करने का आग्रह किया। मैंने कहा कि लंदन में मुंबई पुलिस कुछ मदद नहीं कर सकती आप को मुंबई आकर शिकायत दर्ज करानी होगी।’

कथित तौर पर राकेश मारिया ने डीजीपी को एक कॉनफिडेंशल रिपोर्ट भी सौंपी थी और गृह विभाग भी उनके ऊपर नजर बनाए हुए था। मारिया की सफाई के बाद भी लोगो की निगाहो में मोदी-मारिया के मिलने की तस्वीर छाप छोड़ गयी है।

आपको बता दें कि इंडियन प्रीमियर लीग के प्रथम आयुक्त ललित और अन्य लोग विदेशी मुद्रा के कथित उल्लंघन मामले में प्रवर्तन निदेशालय की जांच का सामना कर रहे हैं।

गौरतलब है कि ललित उस वक्त विवाद में घिर गए जब यह प्रकाश में आया कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने लंदन में उनके यात्रा दस्तावेजों के लिए मदद की थी और राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने लंदन की अदालत में मोदी की आव्रजन अर्जी का कथित तौर पर समर्थन किया था।