कोलकाताः पश्चिम बंगाल भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने शुक्रवार को कहा कि राज्य में नागरिकता (संशोधन) कानून लागू होकर रहेगा और न तो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और न ही उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस इसे रोक पाएगी. घोष कहा कि पश्चिम बंगाल यह कानून लागू करने वाला पहला राज्य बनेगा. Also Read - बंगाल में भाजपा के सत्ता में आने के बाद गोरखा समस्या का समाधान हो जाएगा: अमित शाह

उन्होंने कहा, “इससे पहले उन्होंने अनुच्छेद 370 और नोटबंदी का भी विरोध किया था, लेकिन वे केन्द्र सरकार को इसे लागू करने से नहीं रोक पाए. ऐसे ही राज्य में नया नागरिकता कानून लागू होकर रहेगा.” Also Read - कोलकाता में धरने पर बैठीं Mamata Banerjee, आज रात 2 रैलियों को करेंगी संबोधित

गौरतलब है संशोधित नागरिकता अधिनियम की सबसे मुखर आलोचकों में से एक ममता ने संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि वह किसी भी परिस्थिति में अपने राज्य में नया कानून लागू नहीं होने देंगी, जिस पर भाजपा की ओर से यह बयान आया है. Also Read - Ban on Mamata Banerjee: चुनाव आयोग ने ममता बनर्जी पर लगाया प्रतिबंध, प्रचार नहीं कर पाएंगी

भाजपा ने महाराष्ट्र में नागरिकता कानून लागू करने के लिए उद्धव ठाकरे को लिखा पत्र

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल, पंजाब, केरल, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री नागरिकता संशोधन विधेयक, 2019 को असंवैधानिक बता चुके हैं और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसके विरोध में कहा था कि कुछ भी हो जाए इस कानून को पश्चिम बंगाल में लागू नहीं किया जाएगा. उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार इसे लागू करने के लिए जोर जबरजस्ती नहीं कर सकती.