नई दिल्ली: केन्द्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) ने विदेश मंत्रालय को उन गैर-सरकारी व्यक्तियों के नाम सार्वजनिक करने का निर्देश दिया जो विदेश दौरों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गए थे. पिछले साल अक्तूबर में कराबी दास ने विदेश मंत्रालय से 2015-16 और 2016-17 में प्रधानमंत्री के विदेश दौरों पर हुए खर्च और उनके साथ यात्रा करने वालों की जानकारी देने को कहा था. आवेदक को कोई संतोषजनक जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई जिसके बाद उन्होंने आयोग का दरवाजा खटखटाया. Also Read - Farm Laws 2020: कृषि कानूनों के विरोध के बीच किसानों और सरकार के बीच शुक्रवार होगी नौवें दौर की वार्ता

Also Read - Yuva Sansad महोत्सव में बोले पीएम नरेंद्र मोदी- वंशवाद देश के लिए खतरा, युवा करें इसका खात्मा

विश्व हिंदू कांग्रेस में मुख्य वक्ता के तौर पर शामिल होंगे RSS प्रमुख मोहन भागवत Also Read - Corona Vaccine Latest Update: 16 जनवरी से पूरे देश में शुरू हो रहा टीकाकरण, PM Modi की आज CMs के साथ अहम बैठक

सुनवाई के दौरान आवेदक का प्रतिनिधित्व करने वाले कार्यकर्ता सुभाष अग्रवाल ने मुख्य सूचना आयुक्त आर के माथुर से कहा कि विदेश मंत्रालय ने सूचना देने के लिए 224 रुपये मांगे जिस आवेदक ने जमा कराया. सुनवाई के दौरान मंत्रालय ने कहा कि प्रधानमंत्री के दौरों के संबंध में उनकी यात्रा की तारीख और दिन और विशेष विमानों पर आए खर्च के अलावा कोई अन्य जानकारी संगठित रूप से नहीं रखी जाती. मंत्रालय ने आयोग से यह भी कहा कि वह 224 रुपये के भुगतान से जुड़े मामले पर भी गौर करेगा और उपलब्ध जानकारी देगा. माथुर ने आदेश में कहा कि सरकारी खर्चे पर प्रधानमंत्री के साथ यात्रा करने वाले गैर-सरकारी व्यक्तियों (जिनका सुरक्षा से संबंध नहीं) की सूची आवेदक को उपलब्ध कराई जाए.

सीएम अमरिंदर बोले, 2019 चुनाव के बाद राहुल गांधी बनेंगे पीएम

गौरतसलब है कि जुलाई में सरकार ने बताया था कि जून 2014 के बाद से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 84 देशों की यात्रा के दौरान चार्टर्ड उड़ानों, विमानों के रखरखाव और हॉटलाइन सुविधाओं पर 1,484 करोड़ रुपये खर्च किए गए. विदेश मामलों के राज्य मंत्री वी के सिंह ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में राज्यसभा में मोदी के विदेश यात्रा के दौरान तीनों मदों में किए गए व्यय का विवरण साझा किया था. आंकड़ों के अनुसार, 15 जून , 2014 और 10 जून, 2018 के बीच की अवधि के दौरान प्रधान मंत्री के विमान के रखरखाव पर 1088.42 करोड़ रुपये और चार्टर्ड उड़ानों पर 387.26 करोड़ रुपये खर्च किए गए थे.

पीएम मोदी से सुपरस्टार मोहनलाल की मुलाकात के बाद लग रहे कयास, 2019 का नया टि्वस्ट!

हॉटलाइन पर कुल व्यय 9.12 करोड़ रुपये का हुआ. मोदी ने मई 2014 में प्रधान मंत्री पद संभालने के बाद से 42 विदेशी यात्राओं में कुल 84 देशों का दौरा किया. सिंह द्वारा प्रदान किए गए विवरण में 2017-18 और 2018-19 में उनकी विदेशी यात्राओं के दौरान हॉटलाइन सुविधाओं पर हुआ व्यय शामिल नहीं है. वर्ष 2018-19 में यात्राओं के लिए चार्टर्ड उड़ानों की लागत भी शामिल नहीं है. वी के सिंह के अनुसार, प्रधानमंत्री ने 2015-16 में अधिकतम 24 देशों का दौरा किया और वर्ष 2017-18 में 19 जबकि 2016-17 में 18 देशों का दौरा किया.