नई दिल्लीः कर्नाटक के पूर्व सीएम एच डी. कुमारस्वामी ने प्रधानमंत्री और चंद्रयान 2 को लेकर विवादित बयान दिया है. कुमारस्वामी ने अपने बयान में कहा कि पीएम मोदी के बैंगलोर जाने के कारण ही हमारा चंद्रयान 2 मिशन फेल हुआ है. जहां एक ओर दुनिया भर के लोग भारत के वैज्ञानिकों की तारीफ कर रहे हैं वहीं कुमारस्वामी के इस बयान से विवाद खड़ा हो गया है. कुमारस्वामी ने कहा कि प्रधानमंत्री इस तरह से बैंगलोर आए जैसे वे खुद चंद्रयान 2 की लैंडिंग कराएंगे और वहां से संदेश भेजेंगे.

लैंडर विक्रम के बारे में नागपुर पुलिस ने किया ऐसा ट्वीट, चंद सेकेंड में सोशल मीडिया पर छाया पोस्ट

प्रधानमंत्री में निशाना साधते हुए कर्नाटक के पूर्व सीएम ने कहा कि वह केवल अपना प्रचार करने के लिए इसरो के मुख्यालय में पहुंचे थे और जब वह यहां आए तो मुझे लगा ही था कि उनका यहां आना हमारे वैज्ञानिकों के लिए खराब है. उन्होंने कहा कि उनका आना हमारे चंद्रयान 2 की सफलता में रोड़ा बना और इसी कराण से लैंडर विक्रम की सॉफ्ट लैंडिंग नहीं हो सकी.

समय जैसे-जैसे बीतता जाएगा लैंडर विक्रम से संपर्क बहाल होने की संभावना कम होगी: इसरो साइंटिस्‍ट

कुमारस्वामी मैसूर के एक संवादाता सम्मेलन में बात कर रहे थे तभी उन्होंने कहा मुझे यही लगता है कि पीएम का इसरो मुख्यालय पहुंचना हमारे लिए पूरी तरह से दुर्भाग्यपूर्ण रहा. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी यह जताना चाह रहे थे कि इस मिशन और चंद्रयान 2 के प्रक्षेपण में उनका ही हाथ है लेकिन सच्चाई यह है कि भारतीय वैज्ञानिकों ने इस मिशन के लिए 10-12 साल मेहनत की है और इसकी मंजूरी सरकार ने 2008 की कैबिनेट में ही दे दी थी.

बीते 100 दिन में देश और दुनिया ने देखा, भारत अब हर चुनौती से सीधे टकराने वाला है: पीएम मोदी

आपको बता दें कि 22 जुलाई को चंद्रयान 2 ने अपना मिशन शुरू किया था और उसने लगभग अपना पूरा रास्ता तय कर लिया था लेकिन चंद्रमा की सतह पर उतरने से लगभग 2 किमी पहले चंद्रयान 2 के लैंडर विक्रम से इसरो का संपर्क टूट गया था. इसके बाद से ही इसरो के वैज्ञानिक लगातार लैंडर विक्रम से संपर्क करने की कोशिश में लगे हुए हैं. बता दें कि विक्रम से संपर्क करने की कोशिश में नासा भी इसरो की मदद कर रहा है.