नई दिल्लीः महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के नतीजों के लगभग 30 दिन बीत जाने के बाद भी अभी भी यह पूरी तरह से साफ नहीं हो पाया है कि राज्य में किसकी सरकार बनेगी. कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के बीच लगातार बैठकों का दौर जारी है. शिवसेना ने संकेत दिए हैं कि अगले कुछ दिन में सरकार का गठन हो जाएगा और राज्य में पांच साल के लिए शिवसेना से ही मुख्यमंत्री बनाया जाएगा.

सरकार का अभी ऐलान भी नहीं हुआ है कि शिवसेना नेताओं ने अभी से अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है. पार्टी से विधायक अब्दुल सत्तार ने विवादित बयान देकर कहा कि अगर किसी ने शिवसेना के विधायकों मे फूट डालने या फिर पार्टी को तोड़ने की कोशिश की तो मैं उनके पैर तोड़ दूंगा और उसका सिर कुचल दूंगा.

सीएम पद हासिल करने के लिए तीन दशकों का साथ छोड़ने वाली शिवसेना विधायक अभी से अपना आपा खो बैठे हैं. सत्तार ने कहा कि हम भी देखते हैं कि आखिर कोई हमारे विधायकों को कैसे तोड़ता है. उन्होंने कहा कि तोड़ फोड़ की राजनीति करने वालों को तोड़ कर रख दिया जाएगा.

अब्दुल सत्ता यहीं नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि जिनके पैर टूटेंगे और सिर फूटेगा उनके लिए दवाखाने और एंबुलेंस का भी इंतजाम शिवसेना पार्टी कर देगी. मेरी इस बात को केवल चेतावनी ना समझा जाए, ये चेतावनी के साथ-साथ धमकी भी है. शिवसेना के विधायकों को अगर कोई फोड़ना चाहता हो तो उसको चेतावनी देना शिवसेना का स्टाइल है. शिवसेना सिर्फ चेतावनी नहीं देती है, वक्त आने पर शिवसेना ये सारी चीजे करने में कहीं पर कम नहीं पड़ती है.’