नई दिल्ली: ‘ह्यूमन राइट्स वॉच’ संस्था ने मंगलवार को पुलिस से आग्रह किया कि वे भारत के विभिन्न भागों में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों पर अनावश्यक घातक बल प्रयोग न करें. अमेरिका स्थित मानवाधिकार संगठन की दक्षिण एशिया निदेशक मीनाक्षी गांगुली ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा, “भारतीय अधिकारियों को मुस्लिमों से भेदभाव करने वाले कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों के विरुद्ध अनावश्यक घातक बल प्रयोग करना रोकना चाहिए.”Also Read - Parliament Monsoon Session 2021: अभी तैयार नहीं हुए CAA के नियम, केंद्र ने कहा- 6 महीने और लगेंगे

उन्होंने कहा कि कई क्षेत्रों में भारतीय पुलिस सीएए का विरोध कर रहे लोगों पर अनावश्यक घातक बल प्रयोग कर उन्हें दबा रही है. उन्होंने कहा कि अधिकारियों को हिंसक प्रदर्शनकारियों से कानून के दायरे में निपटना चाहिए लेकिन इसके साथ ही उन पुलिस अधिकारियों से भी जवाब तलब करना चाहिए जो अत्यधिक बल प्रयोग कर रहे हैं. Also Read - CAA और NRC को लेकर RSS प्रमुख मोहन भागवत का बड़ा बयान- देश के मुसलमानों को दिया यह भरोसा

ह्यूमन राइट्स वाच ने दावा किया कि सीएए के विरोध में 12 दिसंबर से शुरू हुए प्रदर्शनों में अब तक कम से कम पच्चीस लोगों की मौत हो चुकी है और सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार किया गया है. Also Read - बड़ा फैसला: इन देशों से आए गैर-मुस्लिम शरणार्थियों को मिलेगी भारत की नागरिकता, मांगे गए आवेदन

(इनपुट भाषा)