मनाली, 5 नवंबर –  हिमाचल प्रदेश में अधिकारियों ने लोगों को मनाली शहर को लाहौल घाटी से जोड़ने वाले रोहतांग दर्रे से यात्रा न करने की सलाह दी है, क्योंकि यहां भारी बर्फबारी की आशंका है, जिसके कारण वे फंस सकते हैं। इस बीच, रोहतांग दर्रे में फंसे पर्यटकों और स्थानीय लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है। यह भी पढ़ें- कश्मीर में भारी बर्फबारी, राजमार्ग बंद Also Read - ... तो देश की पूरी आबादी को नहीं लगेगा कोरोना टीका! स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिया चौंकाने वाला बयान

Also Read - लगातार दूसरा शतक जड़ने वाले स्मिथ ने किया खुलासा- दूसरे वनडे में खेलने पर संशय था

कुल्लू के उपायुक्त राकेश कंवर ने आईएएनएस से कहा, “हम मोटरसाइकिल सवारों को रोहतांग दर्रे से नहीं गुजरने की सलाह देते हैं। बुधवार को हुई हल्की बर्फबारी के बाद हमने इस दर्रे को दो-तीन दिनों के लिए बंद करने का निर्णय लिया है।” उन्होंने बताया कि पिछले दिनों हुई बर्फबारी के बाद रोहतांग दर्रे में फंसे 200 से अधिक लोगों को बुधवार रात सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। Also Read - IND vs AUS 2nd ODI Live Streaming: कब-कहां और कैसे देखें भारत vs ऑस्ट्रेलिया दूसरे वनडे की Online स्ट्रीमिंग और Live Telecast

शिमला स्थित मौसम विभाग ने राज्य में ऊंचाई वाले पहाड़ी क्षेत्रों में छह नवंबर तक बर्फबारी होने का अनुमान जताया है। पर्यटकों के आकर्षण के मुख्य केंद्र रोहतांग दर्रे में मौसम बहुत खराब हो गया है। यहां गर्मियों में तापमान में मामूली गिरावट से सर्दी जैसे हालात पैदा हो जाते हैं। रोहतांग दर्रे का प्रबंध करने वाला सीमा सुरक्षा संगठन (बीआरओ) हर साल 15 नवंबर को विभिन्न स्थानों से अपने कर्मचारियों और मशनरी की तैनाती हटाना शुरू कर देता है। यह दर्रा बर्फबारी के कारण साल में अमूमन पांच माह बंद रहता है। यह जम्मू एवं कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में सशस्त्र बलों की आवाजाही की दृष्टि से भी बेहद महत्वपूर्ण है।