चंडीगढ़: उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले के गावों में एक दर्जन से अधिक बच्चों की जान लेने वाले कुत्तों का खौफ अभी थमा नहीं है कि चंडीगढ़ में भी इसी तरह की घटना सामने आई है. शहर के एक पार्क में खेल रहे डेढ़ साल के शिशु को आवारा कुत्तों ने नोच-नोच कर मार डाला. पुलिस ने आज बताया कि घटना कल की है. घरेलू सहायिका के रूप में काम करने वाली पलसोरा निवासी महिला अपने चार बच्चों को पार्क में खेलने के लिए छोड़कर कर काम करने चली गई थी. इसी दौरान कुत्तों ने बच्चों पर हमला कर दिया. इसमें एक बच्चे की मौके पर ही मौत हो गई.

सीतापुर के आदमखोर कुत्तों ने 4 और मासूमो को बनाया शिकार, 2 बच्चों की मौत

तीन बच्चे भागने में रहे कामयाब
पुलिस ने बताया कि तीन बच्चे तो भागने में कामयाब रहे, लेकिन छोटा होने के कारण डेढ़ साल का आयुष भाग नहीं पाया और कुत्तों ने उसे बुरी तरह नोच-नोच कर घायल कर दिया. उन्होंने बताया कि बाद में पुलिस बच्चे को सरकारी अस्पताल ले गई जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. आसपास के लोगों ने मौके पर जमा होकर विरोध किया और आवारा कुत्तों की समस्या से नहीं निपटने के लिए स्थानीय निकाय अधिकारियों को जिम्मेदार बताया.

अमेरिकी मीडिया में छाया सीतापुर के आदमखोर कुत्तों का आतंक

आवारा कुत्तों की संख्या बढ़ी, डर रहे लोग
लोगों का कहना है कि चंडीगढ़ के मध्य और दक्षिणी हिस्से में रहने वाले लोग पार्कों में आवारा कुत्तों की बढ़ती संख्या से बहुत परेशान हैं. कुत्तों के कारण लोग और बच्चे इन पार्कों में नहीं जा पाते. उन्होंने बताया कि पहले भी कुत्तों ने कई लोगों को काटा है. सेक्टर 49 निवासी बलदेव चंद का कहना है कि हमें अपने बच्चों को बाहर खेलने भेजते हुए डर लगता है. हमारे घरों के आसपास के पार्क आवारा कुत्तों से भरे हुए हैं. हम बच्चों को अकेले खेलने के लिए बाहर नहीं भेज सकते.

सीतापुर में आदमखोर कुत्‍तों ने दो मासूमों को नोच कर मार डाला

सीतापुर में भी कुत्तों का आतंक
बता दें कि यूपी के सीतापुर में इन दिनों कुत्तों का ज़बरदस्त आतंक है. अब तक एक दर्जन से अधिक बच्चों को कुत्ते अपना शिकार बना चुके हैं. बच्चों ने यहां घर से बाहर निकलना और स्कूल जाना तक छोड़ दिया है. गुस्साए लोगों ने कई कुत्तों को मारकर पेड़ पर लटकाया था. कुत्तों को देखते ही गोली मारी गयी थी. पुलिस ने भी कुत्तों को मारा, इसके बाद भी अब तक कुत्तों का आतंक कम नहीं हुआ है. कुत्तों के आतंक की ख़बरें विदेशी मीडिया तक में छाई रहीं.