Domestic Flights to Become Expensive: यात्रियों को अब हवाई यात्रा के लिए अधिक पैसे खर्च करने होंगे. नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने गुरुवार को घरेलू हवाई किराये की निचली और ऊपरी सीमा 10 से 30 प्रतिशत तक बढ़ा दी. मंत्रालय ने अपने आदेश में कहा, ‘ये नई सीमाएं 31 मार्च, 2021 तक या अगले आदेश तक लागू रहेंगी.’ पिछले साल 21 मई को अनुसूचित घरेलू उड़ानें फिर से शुरू करने की घोषणा करते हुए मंत्रालय ने उड़ान की अवधि के आधार पर वर्गीकृत सात ‘बैंड’ के जरिये हवाई किराये पर सीमाएं लगाई थीं.Also Read - जबलपुर रनवे हादसा: DGCA की बड़ी कार्रवाई, Alliance Air के दो पायलटों पर गिरी गाज

इस तरह के पहले बैंड में 40 मिनट की अवधि से कम की उड़ानें आती हैं. पहले बैंड की निचली सीमा 2,000 रुपये से बढ़ाकर 2,200 रुपये कर दी गई. इस बैंड की ऊपरी सीमा 7,800 रुपये तय की गई जो पहले 6,000 रुपये थी. बाद के बैंड 40-60 मिनट, 60-90 मिनट, 90-120 मिनट, 120-150 मिनट, 150-180 मिनट और 180-210 मिनट की अवधि वाले उड़ानों के लिए हैं. Also Read - विमान में सवार नहीं होने दिया गया तो महिला को आया पैनिक अटैक, Video वायरल होने पर Air India ने दी सफाई

इन बैंड के लिए मंत्रालय द्वारा निर्धारित की गई नई निचली और ऊपरी सीमाएं क्रमश: हैं: 2,800- 9,800; 3,300 – 11,700; 3,900 – 13,000; 5,000- 16,900; 6,100- 20,400; 7,200 – 24,200 रुपये है.’ अब तक, इन बैंड के लिए निचली और ऊपरी सीमाएं क्रमश: 2,500- 7,500; 3,000 – 9,000; 3,500 -10,000; 4,500 – 13,000; 5,500- 15,700 और 6,500- 18,600 रुपये थी. Also Read - 9 पायलट और 32 क्रू मेम्‍बर अल्कोहल टेस्ट में फेल होने पर सस्‍पेंड किए गए: डीजीसीए

विमानन नियामक डीजीसीए ने पिछले साल 21 मई को कहा था कि प्रत्येक एयरलाइन को उड़ान पर कम से कम अपने 40 प्रतिशत टिकट निचले और ऊपरी सीमा के बीच के बिंदु से कम कीमत पर बेचने होंगे. कोरोना वायरस के प्रकोप से निपटने के लिए लगभग दो महीने के निलंबन के बाद घरेलू यात्री उड़ान सेवाएं 25 मई को फिर से शुरू हुईं थीं.

(इनपुट: भाषा)