नई दिल्ली: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी प्रोडक्ट्स पर लगाए जाने वाले टैक्स को लेकर भारत पर हमला बोला है. ट्रंप ने सोमवार को कहा कि भारत मुझे खुश करने के लिए अमेरिका के साथ व्यापार करार करना चाहता है. ट्रंप ने कुछ दिनों में दूसरी बार भारत पर कथित रूप से ऊंचा टैक्स रखने का आरोप लगाया है. उन्होंने मेक्सिको और कनाडा के साथ नए व्यापार करार के की घोषणा के लिए व्हाइट हाउस में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में यह आरोप लगाया. मेक्सिको और कनाडा के साथ करार की घोषणा के बाद ट्रंप ने उन व्यापार करारों के बारे में बताया जिन पर वार्ता चल रही है. इनमें जापान, यूरोपीय संघ, चीन और भारत शामिल हैं. Also Read - कश्मीर में भारत 22 अक्टूबर को मनाएगा 'काला दिवस', 1947 में पाकिस्तान ने घाटी में कराई थी हिंसा

ट्रंप ने भारत को ‘शुल्कों का राजा’ करार दिया. उन्होंने अपने इस आरोप को दोहराया कि भारत ने अमेरिकी उत्पादों पर ऊंचा शुल्क लगाया हुआ है. ट्रंप ने भारतीय उत्पादों पर इसी तरह के शुल्क लगाने की चेतावनी देते हुए कहा कि भारतीयों ने उनसे कहा कि वे अमेरिका के साथ व्यापार समझौता करना चाहते हैं. यह वार्ता अमेरिकी व्यापार प्रतिनिध रॉबर्ट लाइटाइजर आगे बढ़ा रहे हैं. Also Read - कॉल सेंटर घोटालेबाज: कनाडा में छात्रों को ठग रहा था भारतीय, कई और इसमें शामिल

ट्रंप ने संवाददाताओं से कहा कि जब अमेरिकी अधिकारियों ने भारतीयों से पूछा कि वे अमेरिका के साथ व्यापार करार क्यों करना चाहते हैं, तो भारतीय अधिकारियों ने कहा कि वे अमेरिकी राष्ट्रपति को खुश करने के लिए ऐसा चाहते हैं. इससे पहले शनिवार को ट्रंप ने कहा था कि भारत चाहता है कि अमेरिका उसके उत्पादों पर ऊंचा शुल्क नहीं लगाए इस वजह से वह हमारे साथ व्यापार करार करना चाहता है. Also Read - चीन को जवाब! मालाबार युद्धाभ्यास में अमेरिका और जापान के अलावा अब ऑस्ट्रेलिया भी होगा शामिल

अमेरिका के सहायक व्यापार प्रतिनिधि मार्क लिनस्कॉट की भारत यात्रा के बाद शनिवार को ट्रंप ने इस तरह की टिप्पणी की थी. लिनस्कॉट की यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार एवं संभावित व्यापार समझौते को लेकर बातचीत हुई थी. ट्रंप अक्सर भारत पर अमेरिका उत्पादों पर 100 प्रतिशत तक का शुल्क लगाने का आरोप लगाते रहे हैं. ट्रंप ने कहा, हमारे पास एक देश है, भारत को ले लीजिए. हमारे उनसे अच्छे संबंध हैं. वह अब हमारे साथ समझौता चाहते हैं क्योंकि वे नहीं चाहते कि मैं जो कर रहा हूं वैसा करूं. इसलिये वे (भारत) हमें बुलाते हैं. वे किसी और से साथ कोई समझौता नहीं करना चाहते हैं.

ट्रंप ने सितंबर में कहा था, भारत को लीजिए. आप मुक्त व्यापार की बात करते हैं. तो हम कहना चाहते हैं कि वे (हमारे) किसी उत्पाद पर 60 प्रतिशत का शुल्क लगाते हैं और वही उत्पाद जब वे (अमेरिका में) भेजते हैं तो हम उस पर कुछ भी शुल्क नहीं लगाते हैं. इसलिए अब मैं उन पर 25 या 20 या 10 प्रतिशत यह इसी तरह का शुल्क लगाना चाहता हूं. ट्रंप ने कहा कि वह भारत का नाम सिर्फ उदाहरण के रूप में ले रहे हैं. वह और भी कई देशों का उदाहरण दे सकते हैं जो अमेरिका प्रति कठोर रवैया अपनाते हैं.