भारत के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का निधन हो गया है इसी साल 27 जुलाई को हुआ।  कलाम मशहूर वैज्ञानिक भी थे। उन्होंने अपने अंतिम सांस शिलॉन्ग में ली। वह वहा एक कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे जब उनको दिल का दौरा पड़ा। Also Read - इतिहास में आज: पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम का जन्मदिन, नेल्सन मंडेला को नोबेल शांति पुरस्कार की हुई थी घोषणा

आईआईएम शिलॉन्ग में एक लेक्चर के दौरान  उन्हें दिल का दौरा पड़ा। दौरा पड़ने के बाद वह बेहोश होकर गिर पड़े। कलाम साहब हमेशा ही युवाओं का मनोबल बढ़ाने के लिए लेक्चर देते थे। Also Read - 'मिसाइल-मैन' के जीवन को गढ़ने वाले लोग, ताउम्र जिनके प्रशंसक रहे डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम

कलाम साहब की मौत का दुःख पुरे देश ने मनाया। भारत माँ के सबसे चाहिते बेटे को सभी ने नम आँखों से विदाई दी। ए.पी.जे. अब्दुल कलाम को श्रद्धांजलि देने के लिए तमिलनाडु के रामेश्वरम में स्थित उनके पैतृक आवास पर लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी  पूर्व राष्ट्रपति ए. पी. जे. अब्दुल कलाम के निधन पर शोक जताया था और कहा था कि वह मजबूत अमेरिका-भारत सबंधों के हिमायती थे और उन्होंने दोनों देशों के बीच अंतरिक्ष सहयोग को मजबूती देने की दिशा में काम किया था। Also Read - Ministers inaugrated abdul kalam's memorial | अब्दुल कलाम की कब्र पर स्मारक का शिलान्यास

कलाम की अंतिम यात्रा में देश के सभी बड़े नेता शामिल हुए थे। प्रधानमंत्री खुद कलाम साहब को श्रद्धांजलि देने के लिए रामेश्वरम में पहुंचे थे। कांग्रेस के युवराज भी उनकी अंतिम यात्रा में शामिल हुए थे।