चेन्नई: राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने एक डीजल तस्करी रैकेट का भंडाफोड़ किया है. जो खनिज स्प्रिट के नाम पर डीजल की तस्करी कर रहे थे. ये ऑपरेटर चेन्नई और आंध्र प्रदेश के काकीनाडा से काम करते थे. एक आधिकारिक बयान में शनिवार को यह जानकारी दी गई. विदेश व्यापार नीति के तहत डीजल का आयात प्रतिबंधित है और केवल तेल विपणन कंपनियों को ही इसके आयात की अनुमति है.Also Read - NEET Exam Latest Update: इस राज्य में अब नहीं होगी नीट परीक्षा, विधानसभा में पारित हुआ विधेयक

वित्त मंत्रालय ने यहां शनिवार को एक बयान जारी कर कहा कि दुबई से नियमित रूप से डीजल का कंटेनर में भारी मात्रा में चेन्नई बंदरगाह पर आयात किया जा रहा था और फिर इसकी तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में अवैध बिक्री की जाती थी. हैदराबाद और चेन्नई के डीआरए अधिकारियों ने इस संबंध में आंध्र प्रदेश राज्य खुफिया विभाग के सहयोग से तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में 17 अप्रैल से तलाशी अभियान चलाया था और पाया कि चेन्नई बंदरगाह पर 14 कंटेनरों में डीजल का आयत किया गया था, जिनकी मात्रा करीब तीन लाख लीटर थी, लेकिन बताया गया कि यह खनिज स्प्रिट है. Also Read - मद्रास हाईकोर्ट ने एक याचिका के फैसले में कहा- तमिल ईश्वर की भाषा है

जांच में यह पाया गया कि तीन ऑपरेटरों ने अब तक करीब 63 लाख डीजल का अवैध आयात किया है, जिसकी कीमत 17.7 करोड़ रुपये हैं और कुल 285 कंटेनरों में इन्हें मंगवाया गया. सीमा शुल्क अधिनियम 1962 के तहत चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जिसमें एक मास्टरमाइंड, एक हवाला ऑपरेटर भी शामिल है. (इनपुट-एजेंसी) Also Read - Retired Lt Gen गुरमीत सिंह उत्तराखंड के नए राज्‍यपाल नियुक्‍त, आरएन रवि तमिलनाडु और पुरोहित पंजाब भेजे गए