नई दिल्ली: स्टाफ सिलेक्शन कमीशन (SSC), केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) और दिल्ली राज्य अधीनस्थ सेवा चयन बोर्ड (डीएसएसबी) में पेपर लीक होने के बाद अब दिल्ली सरकार ने इसे रोकने के लिए बड़ा कदम उठाया है. डीएसएसबी ने पेपर लीक होने से रोकने के लिए तय किया है कि उसके अपने कर्मचारी अब दफ्तर में मोबाइल फोन लेकर नहीं जा सकेंगे, पेपर लीक रोकने के लिए ऐहतियातन तौर पर कर्मचारियों के दफ्तर में मोबाइल ले जाने पर पाबंदी लगा दी गई है.Also Read - Delhi Corona Update: दिल्ली में लगातार 7वें दिन कोरोना से नहीं गई किसी की जान, एक्टिव केस फिर हुए 400 से कम

दिल्ली सरकार के अधीनस्थ कर्मचारियों का चयन करने वाले डीएसएसबी की प्रशासनिक शाखा के उप सचिव एम के निखिल द्वारा जारी आदेश के तहत नॉन गैजेटड कर्मचारियों के मोबाइल फोन के दुरुपयोग की आशंका जताते हुए दफ्तर में इसे लेकर आने पर रोक लगा दी गई है. 26 अप्रैल को जारी इस आदेश में कहा गया है कि कर्मचारियों को दफ्तर के स्वागत केन्द्र पर अपना मोबाइल फोन जमा कराना होगा. कर्मचारी अपनी ड्यूटी खत्म कर घर जाते समय अपना फोन वापस ले सकेंगे. Also Read - Delhi Corona Update: दिल्ली में फिर बढ़े एक्टिव मरीज, आंकड़ा 400 के पार, लगातार छठे दिन नहीं गई किसी की जान

बता दें कि हाल ही में कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) और केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की परीक्षाओं के पेपर लीक होने के बाद डीएसएसबी ने यह कदम उठाया है, इससे पहले डीएसएसबी के पेपर भी लीक हो चुके हैं. इतना ही नहीं आदेश में कर्मचारियों द्वारा मोबाइल फोन पर इंटरनेट सर्फिंग और चैटिंग में अधिकांश समय की बर्बादी को भी पाबंदी की वजह बताई गई है. Also Read - Delhi Corona Update: दिल्ली में लगातार पांचवें दिन कोरोना से नहीं गई किसी की जान, बीते 24 घंटे में 30 नए मामले

आदेश में कहा गया है कि ‘‘बोर्ड की विभिन्न शाखाओं में वरिष्ठ अधिकारियों के दौरे में अधिकांश कर्मचारी अपना विभागीय काम करने के बजाय मोबाइल फोन में मशगूल पाए गए. ड्यूटी के दौरान मोबाइल फोन पर ‘इंटरनेट सर्फिंग और सोशल नेटवर्किंग’ पर कर्मचारियों के समय की बर्बादी और चयन प्रक्रिया से जुड़ी अहम सूचनाओं के मोबाइल एप के जरिए लीक होने के खतरे को ध्यान में रखते हुए डीएसएसबी के सभी नॉन गैजेटड कर्मचारियों को अपना मोबाइल फोन रिसेप्शन पर जमा कराना होगा.’’

बोर्ड के अध्यक्ष की अनुमति से पारित इस आदेश का पालन नहीं करने को डीएसएसबी प्रशासन द्वारा गंभीरता से लेने की बात कही गई है. बोर्ड के अधिकारियों का मानना है कि कई तरह के माबाइल एप से भर्ती प्रक्रिया से जुड़ी अहम जानकारियों को आसानी से लीक किया जा सकता है इसे रोकने के लिए ये कदम उठाया गया है.