श्रीनगर। अलगाववादी नेता और दुख्तरान ए मिल्लत की प्रमुख आसिया अंद्राबी ने आज एक बार फिर पाकिस्तान का गुणगान करते हुए श्रीनगर में पाकिस्तान डे मनाते हुए पाकिस्तानी झंडा लहराया. आसिया ने कई महिलाओं के साथ पाकिस्तान डे मनाते हुए भड़काऊ बयान भी दिया. आसिया ने कहा कि कश्मीर का हर शख्स पाकिस्तानी है. आसिया अंद्राबी ने महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा, हमारे लिए लोग या तो मुस्लिम हैं या फिर काफिर हैं और मुसलमानों का देश पाकिस्तान है. Also Read - J&K Updates: आतंकवादी हमले में बिजबेहरा में CRPF जवान शहीद, त्राल में एनकाउंटर में 3 आतंकी ढेर

Also Read - 'जन्नत' बचाने निकली छोटी सी जन्नत, अब बच्चे किताबों में पढेंगे इनकी कहानी, PM मोदी ने की थी तारीफ़

आसिया ने कहा, पाकिस्तान का जन्म राष्ट्रीयता के आधार पर नहीं बल्कि इस्लाम के आधार पर हुआ था. कश्मीरी पाकिस्तानी मुसलमान हैं और कश्मीर पाकिस्तान का है. जब आसिया भड़काऊ भाषण दे रही थी, उस वक्त उसके ईर्द गिर्द दो महिलाएं भी बुर्के में खड़ी थीं. इनमें से एक के हाथ में पाकिस्तान का झंडा भी थी. Also Read - पुलवामा: आतंकियों ने CRPF शिविर पर ग्रेनेड फेंककर किया हमला, सुरक्षाकर्मियों ने चलाईं गोलियां

कई बार हो चुकी है गिरफ्तार

आसिया लंबे समय से अशांत कश्मीर घाटी में कश्मीरियों को भड़काने के काम करती रही हैं. देशविरोधी बयानों के लिए उनका नाम अक्सर सुर्खियों में आता रहता है. भड़काऊ बयान के लिए आसिया को कई बार गिरफ्तार भी किया जा चुका है. अक्सर ऐसे वीडियो सामने आते रहते हैं जिसमें वह भड़काऊ भाषण देती हुई दिखाई देती हैं. पुलिस ने कई बार पाकिस्तानी झंडा फहराने और राष्ट्र विरोधी भावनाओं को भड़काने के आरोप में आसिया के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.  

जम्मू-कश्मीर सरकार का पोस्टर, किरन बेदी के साथ जिहादियों को दी जगह

जम्मू-कश्मीर सरकार का पोस्टर, किरन बेदी के साथ जिहादियों को दी जगह

साल 2015 में भी जम्मू-कश्मीर पुलिस ने आसिया को सौरा में उसके घर से गिरफ्तार किया था. आसिया पर पाकिस्तानी झंडा लहराने और पाकिस्तान में फोन द्वारा एक रैली करने का आरोप था. आशिक हुसैन फकतू आसिया का पति है, जो हिजबुल मुजाहिद्दीन का नेता है. फिलहाल फकतू जेल में बंद है.

अक्टूबर 2017 में आसिया उस वक्त चर्चा में आई थी जब उसकी फोटो मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और कुछ अन्य हस्तियों के साथ ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान के पोस्टर पर लग गई. इसे लेकर जम्मू-कश्मीर सरकार के लिए शर्मनाक स्थिति पैदा हो गई थी. इस वक्त वह जेल में बंद थी. अंद्राबी को अलगाववादी गतिविधियों के कारण जन सुरक्षा अधिनियम के तहत जेल में बंद किया गया था.