बहराइच (उत्तर प्रदेश): 14 साल के सौम्य अग्रवाल जब पुलिसिया डंडा लेकर सड़कों पर निकले तो सब देखते रह गए. लोगों को लॉकडाउन का पालन करने की गुज़ारिश करने के साथ चेतावनी भी दे रहे सौम्य के आगे पीछे पुलिस घूम रही थी. सब जानना चाह रहे थे कि आखिर 14 साल के लड़के ने ऐसा क्या किया जिससे पुलिस तक उसके आदेश का पालन कर रही थी. Also Read - सुप्रीम कोर्ट ने कहा- तबलीगी जमात पर फर्जी खबरों के आरोप वाली याचिकाओं में NBA भी बने पक्षकार

नारंगी रंग की एक टी शर्ट और पैंट पहने, हाथ में डंडा लिए सौम्या ने पुलिसकर्मियों की एक टीम के साथ घूमकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘दो गज की दूरी’ वाली अपील दोहराई. सौम्या ने घोषणा कर कहा, “लॉकडाउन के नियमों का पालन किया जाना आवश्यक है, यदि कोई लॉकडाउन का उल्लंघन करता है, तो आज का पुलिस चौकी प्रभारी होने के नाते मैं कार्रवाई करते हुए मामला दर्ज करूंगा और दोषियों को जेल भेजूंगा.” Also Read - बिहार में कोरोना संक्रमितों की संख्या तीन हजार पार, पटना में हैं सबसे अधिक मरीज

दरअसल, इस 14 साल की लड़की को उत्तर प्रदेश पुलिस ने लॉकडाउन पालन कराने की जिम्मेदारी सौंप दी. बहराइच के मिहीपुरवा इलाके में 14 वर्षीय सौम्या अग्रवाल को एक पुलिस चौकी का प्रभार दिया गया. ये कोशिश थी कि वह अपने इलाके में लॉकडाउन को लागू कर नियमों का शक्ति से पालन कराए. लोग अपने बीच के बच्चे की बात सुनेंगे इसलिए स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) ने उसे एक दिन के लिए यह जिम्मेदारी देते हुए चार्ज सौंप दिया. Also Read - बिहार में बढ़ सकता है कोरोना, सीएम नीतीश ने अधिक क्वारंटाइन सेंटर बनाने को कहा, स्वास्थ्य विभाग को भी तैयारी के आदेश

बहराइच के एसपी विपिन मिश्रा ने कहा, “यह सामुदायिक पुलिसिंग का दौर है, हम लोगों को प्रोत्साहित कर रहे हैं कि वह खुद से अपने पर पुलिसिंग (नियमों का पालन) करें.” मोतीपुर पुलिस थाना प्रभारी जेपी शुक्ला ने कहा, “जब मिहींपुरवा के पुलिस चौकी प्रभारी अजय तिवारी को पता चला कि सौम्या लोगों को लॉकडाउन नियमों का पालन करा रहा है और बल में शामिल होने का इच्छुक हैं, तो उन्होंने यह प्रयोग किया.” अजय तिवारी ने कहा कि यह प्रयोग सफल रहा और लोग लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं. इस बीच सौम्या ने कहा कि इस प्रयोग के चलते पुलिस बल में शामिल होने का उसका संकल्प और अधिक मजबूत हो गया है.

बहराइच के सांसद अक्षयवर लाल ने भी इस अवधारणा की प्रशंसा कर कहा कि यह लोगों को लॉकडाउन के महत्व को समझाने में मददगार सिद्ध होगा. उन्होंने सौम्या की सराहना करते हुए उसे सलाह दी कि वह खुद भी सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यानपूर्वक पालन करें और साथ ही पढ़ाई का ध्यान रखें ताकि एक दिन पुलिस बल में शामिल होकर वह अपने सपने को पूरा कर सके.