बारामूला: धारा 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान लगातार भारत में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की योजना बना रहा है. सुरक्षा लिहाज से घाटी में पुलिस और सुरक्षाबलों द्वारा लगातार सर्च अभियान चलाया जा रहा है. इसी कड़ी में जम्मू-कश्मीर में 52 आरआर, सीआरपीएफ व एसओजी के संयुक्त सर्च ऑपरेशन को बारामुला में बड़ी सफलता हाथ लगी है. सर्च अभियान के दौरान एक आतंकी को सुरक्षाबलों ने धर दबोचा. पकड़े गए आतंकी का नाम मोहसीन सलेह (Mohsin Saleh) है. इसका संबंध आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद से है.

पुलिस को तलाशी के दौरान उसके पास से एक पिस्टल, 17 गोलियां, 1 मैग्जीन बरामद हुई है. आतंकी मोहिसन से अभी पूछताछ की जा रही है. सूचना के अनुसार पकड़ा गया आतंकी मोहसिन सालेह 21 अगस्त को जैश में शामिल हुआ था. इससे कुछ दिनों पहले भी जैश का एक आतंकी पकड़ा गया था. इस महीने सेना की यह दूसरी सबसे बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. कयास लगाए जा रहे हैं कि आतंकी से पूछताछ में मिली जानकारी सुरक्षाबलों के लिए काफी मददगार साबित होगी.

जानकारी के मुताबिक सुरक्षाबलों को बारामूला इलाके में आतंकी के छिपे होने का इनपुट मिला था जिसके बाद सुरक्षाबलों ने आतंकील को पकड़ने के लिए एक सर्च अभियान चलाया. सर्च अभियान के दौरान ही सुरक्षाबलों ने आतंकी को धर दबोचा.

पुलिस महानिरीक्षक बारामूला एमडी सुलेमान चौधरी ने बताया कि इस आतंकी को एक संयुक्त अभियान में पकड़ा गया. उसके पास से बरामद हथियार व अन्य चीजों से ज्ञात होता है कि वह एक पुलिस अधिकारी की हत्या की योजना बना रहा था.

गौरतलब है कि, जैश-ए-मुहम्मद पहले भी कश्मीर समेत भारत में आतंकी हमला करा चुका है. वैश्विक आतंकी मसूद अजहर इसका मुखिया है. फरवरी में पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था. इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले को जैश ने ही अंजाम दिया था.

(इनपुट-एएनआई)