जींद: सांसद दुष्यंत चौटाला ने रविवार को जींद के पांडू-पिंडारा में जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के नाम की विधिवत रूप से घोषणा की. इस दल से अजय सिंह चौटाला के दोनों पुत्र दुष्यंत और दिग्विजय अगली राजनीतिक पारी खेलेंगे. उन्होंने अपनी नई जेजेपी पार्टी के ऐलान के साथ जनता से इनेलो, बीजेपी और कांग्रेस को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया. उन्होंने कहा कि इन सभी दलों ने जनता को ठगने का ही काम किया है. दुष्यंत ने कहा कि उनकी पार्टी सत्ता में आते ही किसानों के सहकारी कर्ज माफ करेगी. इस दौरान इस सभा में बड़ी भारी भीड़ जुटी.

जम्‍मू-कश्‍मीर में हिज्बुल आतंकी गिरफ्तार, AK-47 के साथ फोटो हुई थी वायरल

प्रदेश से अध्यापक पात्रता परीक्षा (एच टैट) को समाप्त करेगी. बुढ़ापा पेंशन की उम्र कम करेगी, प्रदेश से ई-वे बिल व्यवस्था समाप्त होगी और निजी स्कूलों की फीस सरकारी स्कूलों के बराबर की जाएगी.

डबवाली की विधायक व दुष्यंत की मां नैना चौटाला ने मंच पर नई पार्टी का झंडा लॉन्च किया. झंडे में 70 प्रतिशत रंग हरा है और 30 प्रतिशत रंग पीला है, जिसमें जननायक चौधरी देवीलाल की फोटो भी है.

श्रीनगर के बाहरी इलाके में 18 घंटे चली मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने लश्कर-ए-तैयबा 3 आतंकी ढेर किए 

पार्टी के झंडे पर देवीलाल की फोटो लगाई गई है और इसका रंग हरा व पीला रखा गया है. दुष्यंत ने कहा कि हरा रंग सुरक्षा, शांति, उन्नति व भाईचारे का प्रतीक है और पीला रंग ऊर्जा और सकारात्मकता का प्रतीक.

रिटायर्ड IG की डॉक्‍टर बेटी ने 14वीं मंजिल से कूदकर की सुसाइड, एक दिन बाद होना थी IAS से शादी 

दुष्यंत ने कहा कि इंडियन नेशनल लोकदल का गठन चौधरी देवी लाल ने नीतियों और सिद्धांतों को लेकर किया था, लेकिन अब पार्टी ने उनके सिद्धांतों को त्यागकर कार्यकर्ताओं को तंग करना शुरू कर दिया.

दुष्यंत इनेलो के अध्यक्ष ओम प्रकाश चौटाला के पोते हैं. ओम प्रकाश चौटाला फिलहाल तिहाड़ जेल में बंद नई पार्टी का प्रमुख कौन होगा, इसकी घोषणा नहीं की गई है. दुष्यंत इनेलो के टिकट पर हिसार संसदीय सीट से निर्वाचित हुए थे, लेकिन दो नवंबर को उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण पार्टी से निष्कासित कर दिया गया.

BJP एमएलए और जयपुर की प्रिंसेस दीया कुमारी ने शादी के 21 साल बाद मांगा तलाक

जींद में रैली को संबोधित करते हुए दुष्यंत ने कहा कि उनकी लड़ाई सिद्धांतों पर है और नई पार्टी हरियाणा के लोगों के अधिकारों के लिए लड़ेगी. रैली में हजारों की संख्या में लोग पहुंचे थे.

नई पार्टी का गठन ऐसे वक्त में हुआ है, जब लोकसभा चुनाव में महज तीन-चार महीने का समय बचा है और हरियाणा में अगले साल अक्टूबर में विधानसभा चुनाव हो सकते हैं. नई पार्टी ने इनेलो और चौटाला परिवार में विभाजन की दीवार खड़ी कर दी है.