प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मध्य प्रदेश के कथित ई-निविदा धांधली रैकेट से जुड़े धन शोधन के मामले में भोपाल, हैदराबाद और बेंगलुरु के कई स्थानों पर छापेमारी की. यह मामला तीन हजार करोड़ रुपये से अधिक से जुड़ा है.आधिकारिक सूत्रों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी.Also Read - वैक्सीन की दोनों डोज लगवाओ, शराब की खरीद पर तुरंत 10% छूट पाओ- यहां जारी हुआ गजब का आदेश

उन्होंने बताया कि सबूत जुटाने के लिए एजेंसी ने मामले में संलिप्त विभिन्न संदिग्धों के स्थानों पर इस सप्ताह की शुरुआत में छापेमारी अभियान शुरू किया और यह कार्रवाई धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत की जा रही है. Also Read - Insta Reel: Social Media पर फेमस होने के चक्कर में गई मासूम की जान | Must Watch Video

सूत्रों ने बताया कि मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्य सचिव सहित भोपाल, हैदराबाद और बेंगलुरु में कम से कम 15-16 स्थानों पर छापेमारी की गई. बृहस्पतिवार को भी कुछ स्थानों पर छापेमारी जारी है. Also Read - 10th and 12th MP Board Exams 2022: एमपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं की डेट जारी की, देखें पूरी डेट शीट

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पिछले साल एक आपराधिक मामला दर्ज किया था, जिसमें यह आरोप लगाया गया था कि राज्य सरकार के ई-टेंडर पोर्टल को निविदाओं में हेरफेर करने और अनुबंधों को हथियाने के लिए ‘हैक’ किया गया था और कथित तौर पर भाजपा के शासन में यह हुआ था.

मध्यप्रदेश की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने कमलनाथ नीत कांग्रेस सरकार के दौरान पिछले साल एक मामला दर्ज किया था. ईडी ने पीएमएलए के तहत मामला दर्ज करने के लिए इस प्राथमिकी का अध्ययन किया.

ईओडब्ल्यू ने सात कंपनियों के निदेशकों और विपणन प्रतिनिधियों, राज्य सरकार के पांच विभागों के अज्ञात अधिकारियों और कुछ नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया था.