नई दिल्ली: आठ बड़े विदेशी नगरों से भारत आने वाले सैलानियों को देश में आसानी से प्रवेश मिल सके, इसके लिए इन नगरों के देशों में स्थित भारतीय मिशनों में ई-वीजा बायोमीट्रिक पंजीयन प्रणाली की सुविधा मुहैया कराई जा रही है. गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी. ई-वीजा प्रणाली के तहत वीजा पाने के लिए आवेदक को ऑन लाइन आवेदन करना होता है. ई-वीजा की अवधि अधिकतम दो महीने की होती है. पर्यटन के अलावा इसके अंतर्गत कारोबार और मेडिकल श्रेणी भी आती हैं.

गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि इन आठ विदेशी नगरों में कनाडा का ओटावा, रूस के दो नगर पीटर्सबर्ग और ब्लाडीवोस्टक, जर्मनी का म्यूनिख, बेल्जियम का ब्रुसेल्स, नार्वे का ओस्लो, हंगरी का बुडापेस्ट और क्रोएशिया का जागरेब नगर हैं.

इन आठ शहरों को मिला कर अब विदेशों में स्थित 178 भारतीय मिशनों में से 152 मिशनों में एकीकृत ऑनलाइन वीजा प्रणाली के तहत बायोमीट्रिक पंजीयन प्रक्रिया लागू कर दी गई है.

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि ओटावा (कनाडा), पीटर्सबर्ग और ब्लाडीवोस्टक (रूस), म्यूनिख (जर्मनी), ब्रसेल्स (बेल्जियम), ओस्लो (नार्वे), बुडापेस्ट (हंगरी) और जागरेब नगर (क्रोएशिया) में स्थित भारतीय मिशनों में ई-वीजा बायोमीट्रिक पंजीयन साफ्टवेयर काम कर रहा है.

नए शामिल हुये नगरों के निवासियों को अब भारत के लिए वीजा का आवेदन करने में अधिक आसानी होगी. ये पर्यटक अब भारत आगमन पर वीजा लेने के बजाय, अपने ही शहर में भारतीय मिशन जा कर अपना बायोमीट्रिक ब्यौरा दे सकते हैं. इससे उनके भारत प्रवेश में आसानी होगी.

अधिकारी ने बताया कि इस नई प्रणाली से उनके वीजा संबंधी आंकड़ों की निगरानी कर पाना भी आसान हो सकेगा.एक अन्य अधिकारी ने बताया कि भारत ई-वीजा की सुविधा विश्व के 163 देशों के, भारत आने के इच्छुक नागरिकों को 25 अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट्स और पांच बंदरगाहों के माध्यम से मुहैया कराता है.