जम्मू कश्मीर और उत्तर भारत के कई हिस्सों में भूकंप के झटके महेसुस किये गए। जिसका केंद्र अफगानिस्तान के हिंदू कुश क्षेत्र में था। इस भूकंप की तीव्रता रिक्र पैमाने पर 6।5 आंकी गई और यह 186 किमी की गहराई पर आया। रात 12 बजकर 44 मिनट पर भूकंप आया जिसकी वजह से दिल्ली में लोग अपने घरों से बाहर निकल आए। कश्मीर के लोगों ने भी भूकंप महसूस किया और सुरक्षा की खातिर अपने घरों से बाहर चले गए। Also Read - Earthquake In Delhi-NCR: सुबह-सुबह भूकंप से कांपी धरती, रिक्टर स्केल पर 2.7 रही तीव्रता

Also Read - Earthquake: 5 घंटे में भूकंप के 3 झटके लगे, 4.1 तीव्रता से हिली गुजरात की धरती

जम्मू कश्मीर में मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि हम अभी कह नहीं सकते कि क्या इस भूकंप से कोई नुकसान हुआ है। अभी यह कहना जल्दबाजी होगी कि राज्य में भूकंप के कारण कोई जानमाल का नुकसान हुआ है। अधिक जानकारी मिलने के बाद ही हम कुछ कह पाएंगे।यह भी पढ़ें:बिहार और झारखंड में भूकंप के झटके, रेक्टर स्केल पर तीव्रता 4.2 आंकी गई Also Read - Earthquake: महाराष्ट्र में फिर हिली धरती, पालघर में महसूस किए गए भूकंप के झटके

लोगों में दहशत

भूकंप के कारण लोग दहशतजदा हो गएहैं। इमारतें गिरने की आशंका लोग अपने घरों से बाहर निकल आए। भूकंप की वजह से मोबाइल नेटवर्क भी जाम होने लगे क्योंकि लोग अपनों की खैर खबर पूछने लगे। यही हाल सोशल नेटवर्किंग साइटों का भी हुआ ।

उत्तर पूर्वी अफगानिस्तान भूकंप का केंद्र

उत्तर भारत में आए भूकंप का केंद्र उत्तर पूर्वी अफगानिस्तान था। यूएसजीएस ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि अफगानिस्तान की राजधानी काबुल से करीब 280 किमी पूर्वोत्तर में यह भूकंप स्थानीय समयानुसार रात 11 बज कर 44 मिनट पर आया।

आधी रात को पाकिस्तान तथा ताजिकिस्तान के साथ लगने वाली देश की सीमा पर 6।2 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप आया। यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के अनुसार, भूकंप 203।5 किमी की गहराई पर आया

 पाकिस्तान में भी भूकंप के झटके

पाकिस्तान में राजधानी इस्लामाबाद और पंजाब प्रांत की राजधानी लाहौर सहित कई हिस्सों में आधी रात को 6।9 तीव्रता का भूकंप आया। जिसका केंद्र अफगानिस्तान में था। यह भूकंप 196 किमी की गहराई पर आया।

भूकंप के झटके लाहौर, शेखूपुरा, ननकाना साहिब, फैसलाबाद, सरगोधा, मुल्तान, चकवाल, लोधरां, सियालकोट, गुजरात और झेलम, मुरी, पेशावर, मलकंद, चरसददा, मनसहरा, स्वात, हांगू और स्वाबी, चितराल और दक्षिण वजीरिस्तान में महसूस किए गए।