नई दिल्ली: प्रतिष्ठित अर्थशास्त्री और स्तंभकार सुरजीत भल्ला ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार परिषद की पार्ट-टाइम सदस्यता से एक दिसंबर को इस्तीफा दे दिया है. Also Read - Share market news: RBI के फैसले से शेयर बाजार गदगद, पहली बार सेंसेक्स 45000 के पार बंद, निफ्टी ने भी बनाया नया रिकॉर्ड

Also Read - RBI का बैंकों से आग्रह, बढ़ायें अपना लाभ; वित्त वर्ष 2019-20 में किसी को न दें लाभांश

  Also Read - RBI का ऐलान, अगले कुछ दिनों में सप्ताह के सातों दिन और 24 घंटे उपलब्ध होगी बैंक की यह सुविधा, जानें-कैसे होगा फायदा

भल्ला ने सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर लिखा है कि पीएमईएसी की पार्ट-टाइम सदस्यता से मैंने एक दिसंबर को इस्तीफा दे दिया. नीति आयोग के सदस्य बिबेक देबरॉय ईएसी-पीएम के प्रमुख हैं, वहीं अर्थशास्त्री रथिन रॉय, आशिमा गोयल और शमिका रवि इसके अन्य पार्ट-टाइम सदस्य हैं. बता दें कि इससे पहले सोमवार को उर्जित पटेल ने ‘निजी कारणों’ का हवाला देते हुए अचानक इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने आरबीआई की ओर से जारी एक संक्षिप्त बयान में कहा कि मैंने निजी कारणों से अपने मौजूदा पद से तत्काल इस्तीफा देने का निर्णय लिया है.

उर्जित पटेल के इस्तीफे पर बोले पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, ‘देश की अर्थव्यवस्था के लिए बड़ा झटका’

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने उर्जित पटेल के इस्‍तीफे को बताया दुर्भाग्यपूर्ण

उन्होंने बयान में कहा कि वर्षो तक आरबीआई में विभिन्न पदों पर काम करना मेरे लिए सौभाग्य और सम्मान की बात रही है. इन वर्षो में आरबीआई के कर्मचारियों, अधिकारियों और प्रबंधन के सहयोग और कठिन परिश्रम से बैंक ने सराहनीय उपलब्धियां हासिल की. पटेल ने कहा कि मैं इस अवसर पर अपने सहयोगियों और आरबीआई केंद्रीय बोर्ड के निदेशकों के प्रति आभार व्यक्त करता हूं और उन्हें भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं. उधर, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर उर्जित पटेल के इस्तीफे को ‘बहुत दुर्भाग्यपूर्ण’ करार देते हुए कहा कि यह देश की अर्थव्यवस्था को लगा एक ‘गंभीर झटका’ है.