नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय ने कांग्रेस प्रवर्तित एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) को पंचकूला भूमि आवंटन मामले में सोमवार को अपना पहला आरोप पत्र दायर किया और इसमें पार्टी के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा का नाम है.Also Read - CBI, ED निदेशक के कार्यकाल का विस्तार: इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचीं TMC सांसद महुआ मोइत्रा, किया ये ट्वीट

केंद्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि चंडीगढ़ के नजदीक पंचकूला स्थित एक विशेष पीएमएलए अदालत में एक अभियोजन शिकायत दायर की गई. मामला तत्कालीन सरकार द्वारा 1992 में पंचकूला के सेक्टर 6 में सी-17 स्थित एक प्लॉट का आवंटन एजेएल को करने में कथित अनियमितताओं और धनशोधन के आरोपों से संबंधित है. एजेएल का नियंत्रण गांधी परिवार सहित वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के हाथ में है. समूह नेशनल हेराल्ड समाचारपत्र चलाता है. Also Read - एनकाउंटर का विरोध कर रहीं महबूबा मुफ्ती श्रीनगर में अपने आवास पर हाउस अरेस्‍ट, ED ने भाई को किया तलब

बता दें कि प्रवर्तन निदेशालय प्लॉट को पहले ही कुर्क कर चुका है जिसका मूल्य 64.93 करोड़ रुपए आंका गया है और यह एजेंसी द्वारा मामले में दायर किया गया पहला आरोप पत्र है. Also Read - West Bengal News: पश्चिम बंगाल विधानसभा में CBI, ED अधिकारियों के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस

वहीं, कांग्रेस के मुखपत्र नेशनल हेराल्ड के प्रकाशक एसोसिएटेड जर्नल लिमिटेड (एजेएल) के एक अन्‍य मामले में दिल्‍ली में पिछले साल एक कोर्ट एक फैसले में आईटीओ स्थित अपना कार्यालय खाली करने को कहा गया था. हालांकि, इस फैसले को हाईकोर्ट की खंड पीठ ने बरकरार रखा लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इस साल अप्रैल में इस पर रोक लगा दी. यह विषय फिलहाल शीर्ष न्यायालय में लंबित है.