नई दिल्ली: भारत और पाकिस्तान के बीच अंतराष्ट्रीय सीमा पर सोमवार को ईद-उल-अज़हा के मौके पर सीमा सुरक्षाबल (बीएसएफ) और पाकिस्तान रेंजर्स के बीच मिठाइयों का पारंपरिक आदान-प्रदान नहीं हुआ. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को निरस्त करने के मोदी सरकार के फैसले के आलोक में पाकिस्तान द्वारा एकतरफा ढंग से भारत के साथ राजनयिक संबंधों का दर्जा घटाने को सीमा पर ईद के मौके पर मिठाइयों का आदान-प्रदान नहीं होने की वजह के रूप में देखा जा रहा है.

 

अधिकारियों ने बताया कि जम्मू, पंजाब, राजस्थान और गुजरात में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बीएसएफ ने मिठाइयों और बधाई देने के लिए आधिकारिक सूचना दी लेकिन पाकिस्तानी पक्ष ने कार्यक्रम में शिरकत करने से इनकार कर दिया. इस संबंध एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि सोमवार को ईद-उल-अज़हा के मौके पर भारत-पाकिस्तान सीमा पर कहीं भी पारंपरिक कार्यक्रम नहीं हुआ. तीन हजार किलोमीटर से अधिक लंबी इस सीमा पर तैनात दोनों देशों के प्रहरी बल ईद, होली, दीपवाली जैसे बड़े त्योहारों और दोनों देशों के राष्ट्रीय पर्वों के मौके पर एक-दूसरे को मिठाई देते हैं.

भारत का पाक को जवाब, रद्द की दिल्ली-लाहौर के बीच चलने वाली सदा-ए-सरहद बस सेवा

बीएसएफ और बार्डर गार्ड्स बांग्लादेश के बीच मिठाइयों का आदान-प्रदान
हालांकि 4,096 किलोमीटर लंबी भारत-बांग्लादेश सीमा पर निर्धारित स्थानों पर बीएसएफ और बार्डर गार्ड्स बांग्लादेश (बीजीबी) के बीच मिठाइयों का आदान-प्रदान हुआ. अधिकारी ने बताया कि दोनों प्रहरी बलों के वरिष्ठ कमांडरों ने दोस्ताना प्रोटोकॉल के तहत एक दूसरे को बधाई दी और मिठाइयां भेंट की. (इनपुट एजेंसी)