छत्तीसगढ़: सुकमा में मंगलवार को नक्सलियों ने भीषण हमले को अंजाम दिया. इसमें सीआरपीएफ के 9 जवान शहीद हो गए. वहीं चार जवान घायल हो गए. रिपोर्ट के मुताबिक, नक्सलियों ने योजनाबद्ध तरीके से किस्ताराम एरिया में घटना को अंजाम दिया. ब्लास्ट को लैंडमाइन से अंजाम दिया गया है. इसके बाद अंधाधुंध फायरिंग की गई. सभी जवान सीआरपीएफ की 212  बटालियन के थे. Also Read - झीरम घाटी हमले कांग्रेस नेता महेंद्र कर्मा के सुरक्षाकर्मी से लूटे गए हथियार नक्सलियों से एनकांउटर में बरामद

प्राप्त जानकारी के अनुसार, सीआरपीएफ के जवान सुकमा में मंगलवार की सुबह से ही ऑपरेशन चला रहे थे. इस दौरान सुबह 8 बजे नक्सलियों और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुई. जवानों की जवाबी कार्रवाई के बीच नक्सली भागने में सफल हुए. दोपहर 12.30 बजे नक्सलियों ने किस्ताराम और पलोदी इलाके में 212 बटालियन की दूसरी टीम को टार्गेट कर हमला कर दिया.

इस हमले में 8 जवान मौके पर ही शहीद हो गए. वहीं तीन की हालत गंभीर बनी हुई है. उन्हें प्राथमिक इलाज के बाद हैलीकॉप्टर से रायपुर भेजा गया है.

एंटी नक्सल ऑपरेशन के स्पेशल डीजी डीएम अवस्थी ने कहा, किस्ताराम से पलोदी जा रही पेट्रोलिंग पार्टी पर नक्सलियों ने हमला किया है. नक्सलियों ने आईईडी के जरिए वारदात को अंजाम दिया है. घटना की जानकारी होते ही मौके पर अतिरिक्त फोर्स भेजी गई है. इस समय वहां किसी तरह की फायरिंग की सूचना नहीं है.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सुकमा हमले में दुख जताते हुए कहा कि शहीद जवानों के परिजनों के साथ उनकी संवेदना है. घायल जवानों के स्वास्थ्य के लिए ईश्वर से प्रार्थना करता हूं. मैंने डीजी सुकमा से इस बारे में बात की है.